bhaw

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 8 नवंबर को 500 और 1000 के नोट अमान्य किये जाने का फैसला सुनाते हुए पीएम मोदी ने गोपनीयता का हवाला देते हुए नोटबंदी को अचानक लागू करने की वजह गोपनीयता को बताया था. ताकि कालेधन रखने वालो को कोई मौका न मिल पाए.

इस फैसले की गोपनीयता पर विपक्ष पहले ही आरोप लगा चूका हैं कि केंद्र सरकार ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और पार्टी के कॉर्पोरेट सहयोगियों को इसकी जानकारी पहले ही दे दी थी. इसके अलावा कुछ समाचारपत्रों ने पीएम घोषणा के कई दिन पहले भी इस बारे में खबर छापी थी.

ऐसे में एक बार फिर से मोदी सरकार इस फैसले की गोपनीयता के लिए घिरती नजर आ रही हैं. राजस्थान के कोटा से विधायक भवानी सिंह राजावत का विडियो वाइरल हो रहा हैं जिसमे वह इस फैसले के बारे में देश के प्रमुख उद्योगपति अम्बानी और अडानी को इस फैसले के बारे में पहले से ही जानकारी होने की बात कह रहे हैं.

ये विडियो एक स्टिंग की तरह लिए गया हैं हालांकि इस विडियो की प्रमाणिकता के बारे में कोहराम न्यूज़ कोई पुष्टि नहीं करता हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें