hijab women not get any person to change tire

जैसे जैसे समाज आधुनिकता की ओर कदम बढाता जा रहा है वैसे वैसे लोगो के पहनावे को लेकर भ्रम खत्म होते जा रहे है. आपका पहनावा आपका निजी मामला है इससे दुसरे व्यक्ति को फर्क नही पड़ना चाहिए, वैसे कहा तो यह भी जाता है की रेप या छेड़छाड़ की घटनाओं के पीछे व्यक्ति की मानसिकता होती है ना की पीड़ित का पहनावा. हालाँकि बहुत से लोग इस बात को सही नही मानते.
नीचे हम ऐसा ही एक विडियो दिखा रहे है जिसमे यह बात साबित होती है की महिला का पहनावा बहुत कुछ कहता है, हालाँकि इसमें महिला का कोई दोष नही है क्योंकी जिस पश्चिमी सभ्यता को हमने आधुनिकता का माप दंड बना लिया है उसी आधुनिकता में महिला का जिस्म सिर्फ एक प्रोडक्ट है. वो समाज ऐसा हो चूका है जिसमे वो लोग ऐसी महिला को सिर्फ एक सेक्स अपील के तौर पर देखते है, जहाँ महिला एक माँ है एक बहन है एक बेटी है एक पत्नी है ..वहीँ पश्चिमी संस्कृति में यह सिर्फ एक ‘औरत’ है.

यह विडियो देखिये और खुद से सवाल कीजिये की हमें ऐसी आधुनिकता चाहिए या नही ..?


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें