‘हम एक ऐसे फासिस्ट रिजीम में दाखिल हो गए हैं, जो आपके विचारधारा से सहमत नहीं है, उसे दबा दो, मार दो, उसका गला घोंट दो… ये जो ट्रेंड है, यदि इसको रोका नहीं गया तो हमारे संविधान के अंदर चाहे कितने ही मौलिक अधिकार मौजूद क्यों न हो, वो सिर्फ कागज़ के पन्नों तक ही सिमट कर रह जाएंगे. उसका अमल से कोई ताल्लुक नहीं होगा.’

Dr. Syed Qasim Rasool Ilyas

यह बातें TwoCircles.net के साथ एक खास बातचीत में वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. क़ासिम रसूल इलियास ने कहा.

इलियास कहते हैं कि –‘मोदी सत्ता में ‘अच्छे दिन’ के नारे के साथ आए थें. विकास की बातें की थी. ‘सबका साथ –सबका विकास’ का भी नारा दिया है. लेकिन आप देख लीजिए कि डेढ़ साल में देश में क्या हुआ है और क्या क्या हो रहा है? आम आदमी हताश है, परेशान है.’

वो आगे कहते हैं कि –‘जेएनयू मामला के बहाने सरकार का दोगला चेहरा एक्सपोज़ हो रहा है. कश्मीर में जिस पीडीपी के साथ यह सरकार चला रहे हैं, उस पीडीपी का भी वह विचार है, जो नारा जेएनयू में लगा है. फिर वहां आप विरोध क्यों नहीं करते? वहां आपकी देशभक्ति कहां चली जाती है? सच तो यह है कि ये ऐसे लोग हैं, जिनका देश की आज़ादी में गद्दारी का इतिहास रहा है. जिन्होंने गांधी को मार डाला और अब गांधी को मारने वाले गोडसे का महिमामंडन करते हैं. क्या यह देशद्रोह नहीं है?’

TwoCircles.net के साथ इस खास बातचीत में डॉ. क़ासिम रसूल इलियास अपना गुस्सा मीडिया पर भी उतारते हैं. वो बताते हैं कि –‘अर्नब गोस्वामी एक बदतमीज़ एंकर है. किसी की बात नहीं सुनता, सिर्फ़ अपनी थोपता है.’ उनका यह भी कहना है कि –‘मीडिया खुद को देश के न्याय-तंत्र से भी उपर समझता है. इन पर अब लगाम लगना ज़रूरी है.’

इलियास के मुताबिक़ जेएनयू का पूरा घटनाक्रम एक सोची समझी साज़िश का हिस्सा है. जेएनयू बहुत पहले से इनके निशाने पर था. क्योंकि जेएनयू हमेशा आरएसएस व बीजेपी के विचारधारा के ख़िलाफ़ रहा है. ऐसे में बीजेपी के पास डेमोक्रेटिक तौर पर जेएनयू को दबाना मुमकिन नहीं था, तो फिर आख़िर में जेएनयू को बदनाम करके इस मसले का हल निकाला गया.

वो कहते हैं कि हरियाणा में इतना कुछ हो रहा है, लेकिन मीडिया उस पूरे मसले को नहीं दिखा रही है. जान-बुझ कर जेएनयू के मुद्दे पर लगी हुई है. वो बताते हैं कि उनकी पार्टी जल्द ही देश के मौजूदा हालात को लेकर एक देशव्यापी मुहिम चलाएगी.

स्पष्ट रहे कि डॉ. क़ासिम रसूल इलियास ख़ालिद उमर के पिता हैं. उनको भी पूरे परिवार के साथ मारने की धमकी मिल रही है.

नोट : डॉ. क़ासिम रसूल इलियास से यह ख़ास बातचीत रविवार शाम में किया गया है. इसी रात खालिद उमर भी जेएनयू लौट आया और छात्रों को संबोधित भी किया. डॉ. क़ासिम रसूल इलियास का पूरा वीडियो इंटरव्यू आप नीचे देख सकते हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें