animal-cruelty-vellore-medical-students-759

वेल्लोर | इंसानों को कुदरत की सबसे बुद्धिजीवी प्रजाति माना जाता है. इंसान अपने सोचने की शक्ति की वजह से, बाकी प्रजातियों से सर्वोच्च होता है. लेकिन इसका मतलब यह नही है की इंसानों को बाकी प्रजातियों के साथ हर तरह की दरिंदगी करने का हक़ मिल जाता है. पूरी दुनिया में जानवरों के प्रति किये जा रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठती रहती है लेकिन फिर भी जानवरों के प्रति हो रही दरिंदगी लगातार बढ़ रही है.

भारत में भी इस तरह की घटनाए सुनने को मिल जाती है. कुछ दिन पहले चेन्नई मेडिकल कॉलेज के एक छात्र ने , कुतिया को छत से नीचे फेंक दिया था. अब वेल्लोर में एक बंदरिया के साथ दरिंदी की खबर है. बंदरिया के साथ जिस तरह की दरिंदगी की गयी , वो सुनकर किसी का भी कलेजा मुंह को आ जाये. न जाने ऐसे लोग किस मानसिक विकृति के शिकार होते है.

वेल्लोर के क्रिस्चियन मेडिकल कॉलेज के छात्रों ने एक बंदरिया के हाथ पैर बाँध कर पहले उसकी खूब पिटाई की, इसके बाद बंदरिया की एक आँख निकाल ली. जब इस सब से उनका मन नही भरा तो उन्होंने बंदरिया के गुदा द्वार में एक रोड घुसा दी जिससे बंदरिया का पाचन तंत्र ख़राब हो गया. इतनी दरिंदगी की वजह से बंदरिया ने दम तोड़ दिया.

मरी हुई बंदरिया को छात्रों ने कॉलेज परिसर में दफना दिया. जैसे ही यह मामला बाहर आया कुछ छात्रों ने इसकी सूचना एक एनिमल एक्टिविस्ट को दी. उन्होंने यह सूचना अपने सहयोगियों को दी. ऐनिमल राइट्स ऐक्टिविस्ट श्रवण कृष्णन ने सोमवार को इसकी शिकायत बगयाम पुलिस थाने में दर्ज कराई. पुलिस ने आईपीसी की धारा 429 (जानवरों को नुकसान पहुंचाना) के तहत चार छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. बंदरिया का शव कॉलेज परिसर से निकाल लिया गया है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें