Lord-Prescott-attends-Ira-007

ब्रिटेन के पूर्व उप प्रधान मंत्री जॉन प्रेस्कॉट ने कहा है कि ब्रिटेन और अमेरिका का इराक पर हमला अवैध था. ब्रिटिश अखबार ‘संडे मिरर’ में उन्होंने लिखा है कि उन्हें ‘आजीवन इस विनाशकारी निर्णय के साथ जीवन बसर करनी होगी.

साल 2003 में इराक हमले के समय जॉन प्रेस्कॉट उप प्रधान मंत्री की कमान सम्भाल रहे थे जिन्होंने हल ही में इस बात का खुलासा किया हैं कि उनको अफ़सोस है कि बाकी बची हुई ज़िन्दगी उनको विनाशकारी निर्णय के साथ गुज़ारनी पड़ेगी.

लॉर्ड प्रेस्कॉट ने कहा कि वह अब ‘बेहद दुख और गुस्से’ की स्थिति में संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान से सहमत हैं कि ‘युद्ध अवैध थी’ उन्होंने लेबर पार्टी के जेरोम कोरबन पार्टी की ओर से माफी मांगने पर सराहना की है.

प्रेस्कॉट ने इस बात का भी ज़िक्र किया कि मार्च में हमले से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज विलियम बुश के नाम ब्रिटिश प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर का संदेश कि चाहे कुछ भी हो, हम तुम्हारे साथ हैं ‘विनाशकारी था.

प्रेस्कॉट ने अखबार के ज़रिये दुनिया भर को इस बात की जानकारी देते हुए लिखा कि “कोई दिन ऐसा नहीं जाता जब हम युद्ध में जाने के फैसले के बारे में नहीं सोचते, उन ब्रिटिश सैनिकों के बारे में जिन्होंने अपना जीवन दिया और अपने देश के लिए घाव उठाए, उन पौने दो लाख लोगों की मौत के बारे में जो सद्दाम हुसैन को हटाने और हमारे भानुमती बॉक्स खोलने के परिणाम में स्थित हुईं.”

सर जॉन चलकोट की अध्यक्षता में ब्रिटेन के इराक पर हमले की रिपोर्ट पिछले सप्ताह प्रकाशित हुई है, इस रिपोर्ट के अनुसार इराक के व्यापक पैमाने विनाश के हथियारों के खतरे को जिस विश्वास के साथ सामने लाया गया था, उसका कोई औचित्य नहीं प्राप्त हुआ.

Web-Title: Britain invade Iraq was wrong

Key-Words: Britain, Iraq, Vice-Prime Minister, John Prescot


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें