‘अगर बीसीसीआई चाहता है कि धर्मशाला में भारत और पाकिस्तान का मैच तो पहले पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर का सिर भारत लाए।’ यह कहना है पूर्व सैन्यकर्मी मेजर विजय सिंह मानकोटिया का। हिमाचल प्रदेश में भारत-पाक मैच का मुद्दा उग्र होने पर गुरुवार को मेजर विजय सिंह ने यह बयान दिया। दोनों देशों के बीच मैच की तरीख 19 मार्च की तय की गई है।

Pak-vs-India1

 उन्होंने कहा,’हमने मैच का विरोध करने के लिए ‘ऑपरेशन बलिदान’ लॉन्च करने का फैसला किया है। खूफिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मैच देखने के लिए तकरीबन 7,000 पाकिस्तानी कश्मीर के रास्ते मैच देखने के लिए धर्मशाला आएंगे। जब वे पाकिस्तानी झंडे लहराएंगे तब हालात बिगड़ सकते हैं। अगर एनडीए सरकार में आतंक और वार्ता एक साथ नहीं हो सकती तो आतंक और टी-20 साथ कैसे हो सकता है? अगर शहीदों के परिवार इसके लिए राजी हो जाते हैं तब भी हम अपना विरोध जारी रखेंगे।’

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पहले ही धर्मशाला में मैच कराने पर असहमित जता चुके हैं। इस बारे में उन्होंने गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर मैच के लिए दूसरी जगह तय करने को कहा है। लेकिन हिमाचल प्रदेश क्रिकेट असोसिएशन (एचपीसीए) चाहता है कि मैच धर्मशाला में हो। इन सबके मद्देनजर पूरे मसले पर तनाव की स्थिति हो गई है। इस बारे में बीसीसीआई सेक्रटरी अनुराग ठाकुर, एचपीसीए और कांग्रेस के विधायकों की मीटिंग भी होने वाली है।

एचपीसीए ने अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया से बताया,’हम मैच का वेन्यू दूसरी जगह शिफ्ट नहीं करना चाहते। धर्मशाला के ज्यादातर लोग भी चाहते हैं कि मैच यहीं हो, इससे हमारे पास ज्यादा बिजनस आएगा।’ वहीं अनुराग ठाकुर ने कहा था कि जब तक भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार नहीं आ जाता, दोनों देशों के बीच मैच भी नहीं होगा। हालांकि अब उनका कहना है कि टी-20 वर्ल्ड कप के मैचों के फैसला आईसीसी ने एक साल पहले ही ले लिया था और अब इसे कैंसल नहीं किया जा सकता।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें