wife

अमेरिकी चुनाव में इस बार फर्जी खबरों का बोलबाला रहा है हालाँकि हमारे देश में लोकसभा चुनावों से समय से फर्जी ख़बरों की अचानक से बाढ़ आ गयी थी जिसमे किसी फोटो में बुलेट ट्रेन को दिखाकर उसे गुजरात की बताया गया किसी में टोक्यो दिखाकर उसे अहमदाबाद बताया गया. अब इन बातों से खुद अमेरिका को दो चार होना पड़ा.

ताज़ा ख़बरों के मुताबिक अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फेसबुक की आलोचना की है उनका कहना है की फर्जी ख़बरें चलाकर डोनाल्ड ट्रम्प के पक्ष में माहौल किया गया और यह ख़बरें इस तरह से सर्कुलरेट की गयी कि फेसबुक पेज पर देखें या टीवी ऑन करें तो आप फर्क ही (असली और फर्जी के बीच) पता नहीं कर सकते।’

ओबामा ने आगे कहा, ‘अगर सब कुछ एक ऐसा ही नजर आए और उसमें फर्क न दिखे तो हमें पता नहीं होगा कि करना क्या है।’ दरअसल Buzzfeed ने पाया था कि अमेरिका के इलेक्शन कैंपेन के दौरान फेसबुक पर फर्जी स्टोरीज़ का प्रदर्शन पारंपरिक मीडिया साइट्स द्वारा प्रकाशित सही स्टोरीज़ से कहीं अच्छा रहा था। इसके बाद आलोचकों ने सोशल मीडिया साइट को अमेरिकी चुनाव को डॉनल्ड ट्रंप के पक्ष में राजनीतिक विषयों पर फर्जी खबरें चलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

वहीँ मार्क जुकरबर्ग का कहना है की फेसबुक पर जो भी आरोप लगाये गये है वो सब गलत है और ना ही फेसबुक की फर्जी खबर चलाने में कोई भूमिका है, तथा जल्द ही फर्जी खबर देने वाली सभी वेबसाइट को फेसबुक ब्लाक कर देगा.

गौरतलब है की कुछ दिन पहले जब 2000 रुपए का नोट आया था तब भी देशभर में कुछ मीडिया चैनल द्वारा नोट में चिप होने की फर्जी खबर चलायी गयी थी. जिससे दुनियाभर की मीडिया में भारत के मीडिया की खिल्ली उड़ी थी.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें