राष्ट्रवादियों की सरकार में देशभक्ति के नाम पर लम्बे-लम्बे प्रवचन रोजाना सुनने को मिलते है. लेकिन वहीँ देश के अपने लिए प्राणों की आहुति देने वाले परिवारों को मदद करने के बजाय और सताया जाता है.

ताजा मामला यूपी के गाजीपुर का है जहाँ शहीद जवान के परिवारवालों को आर्थित मदद के लिए सेना की तरफ से भेजा गया चेक बाउंस हो गया. याद रहे 22 नवंबर को जम्मू-कश्मीर के माछिल सेक्टर में घात लगाकर किए गए हमले में भारतीय सेना के 3 जवान शहीद हो गए थे, जिनमें एक शहीद मनोज भी थे.

और पढ़े -   योगी सरकार का मदरसों को नया आदेश - छात्रों और अध्यापकों का कराना होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

मनोज की विधवा मंजू ने बताया- पति के शहीद होने के बाद सेना की तरफ से 1लाख 88 हजार 520 रूपए का एक चेक भेजा गया था, जिसे बैंक में जमा कर दिया। काफी दिन बाद बताया गया कि चेक बाउंस हो गया है. वहीं बैंक की तरफ से बताया गया कि चेक पर सैन्‍य अफसर के साइन मैच नहीं हो पा रहे थे. ऐसे में भुगतान संभव नहीं.

और पढ़े -   भैंस ले जा रहे दो मुस्लिम युवकों की अवैध वसूली का विरोध करने पर पिटाई

शहीद की विधवा का कहना है कि मेरे 2 बच्‍चे हैं और कमाने वाले सिर्फ वही थे, जो देश के लिए शहीद हो गए. बच्‍चों की परवरिश मुश्क‍िल हो गई है. इसके अलावा गैस एजेंसी का वादा किया गया था, लेकिन वो भी आज तक नहीं मिला. अभी तक पेंशन का भुगतान भी नहीं किया गया है. ऐसे में हालात बदतर होते जा रहे हैं.

और पढ़े -   आदिवासी के घर खाना खाने पहुंचे अमित शाह, शौचालय को लेकर हुई फजीहत

वहीं, शहीद के भाई बृज मोहन ने कहा कि हम लोग ऑफिसों के चक्‍कर लगा-लगाकर थक चुके हैं, लेकिन कोई भी अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है. बैंक वाले चेक क्लियर नहीं कर रहे हैं. भाई के शहीद होने के बाद बड़े-बड़े वादे किए गए थे, लेकिन वो सब कागजों तक सीमित होकर रह गए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE