उत्तरप्रदेश शिया सेण्ट्रल वक्फ बोर्ड ने गुरुवार को हुई बैठक में उन्नाव के वक्फ आलिया बेगम सफीपुर उन्नाव के मुतवल्ली और राज्य के वक्फ राज्यमंत्री मोहसिन रज़ा को मुतवल्ली पद से बर्खास्त कर दिया है. बोर्ड ने रजा को वक्फ सम्पत्ति व पारिवारिक कब्रिस्तान को अवैध रूप से बेचने का दोषी माना है.

लखनऊ के इंदिरा भवन में दो दिनों तक चली बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए. बोर्ड के अनुसार, मोहसिन रजा वक्फ सम्पत्ति व पारिवारिक कब्रिस्तान को अवैध रूप से बिकवाये जाने में जांच में दोषी पाये गए. इस‌लिए उन्हें वक्फ आलिया बेगम, सफीपुर, उन्नाव के मुतवल्ली पद से बर्खास्त कर दिया गया है.

और पढ़े -   बीजेपी नेता के होटल में चल रहा था सेक्स रैकेट, चार महिला गिरफ्तार

मिली जानकारी के अनुसार देश में बिना बोर्ड की अनुमति पूर्व में बेची, खरीदी गई वक्फ संपत्तियों की शिकायतों पर हुई सुनवाई में वक्फ मोती मस्जिद हुसैनाबाद लखनऊ के कुछ प्रकरणों का निपटारा किया. बेची गई वक्फ सम्पत्ति का कब्जा वापस लेने और खरीदने व बेचने वालों के खिलाफ एफआईआर लिखाने के भी आदेश दिए हैं. जिन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है उनमें प्रदेश के वक्फ राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा के अलावा कई अन्य लोग भी शामिल हैं.

और पढ़े -   रेल हादसा: नमाज छोड़ मुस्लिमों ने घायलों की जान बचाई, हिंदू संतों ने कहा - नहीं आते तो आज जिंदा नहीं बचते

जबकि दूसरी ओर मंत्री मोहसिन रजा के अनुसार नियमों के तहत बोर्ड के फैसलों पर आदेश जारी करना सीईओ की जिम्मेदारी है. सफीपुर की वक्फ आलिया बेगम के मुतवल्ली पद से बर्खास्त करने व प्रशासक की तैनाती का आदेश बोर्ड के अध्यक्ष द्वारा जारी किया जाना असंवैधानिक है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE