उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने वफ्फ बोर्डों को भंग करने का निर्णय ले लिया है. इसी क्रम में हज मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्डों के चेयरमैन को हटाने के आदेश भी जारी कर दिए है.

लक्ष्मी नारायण का कहना है कि दोनों ही चेयरमैन पर करोड़ों के घोटालों के गंभीर आरोप हैं. इन पर निजी स्वार्थ के चलते हजारों करोड़ की जमीन बेचने का आरोप लगा है. ऐसे में दोनों को हटाने के लिए उत्तर प्रदेश शासन को पत्र लिख दिया गया है.

और पढ़े -   योगीराज: दलित छात्र से बदसलूकी, स्कूल अधिकारी ने करवाई कुत्तों की मालिश

उन्होंने मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार को भी हटाने के आदेश दिए है. उन्होंने कहा कि सेंट्रल वक्फ काउंसिल सीडब्ल्यूसी की जांच में दोनों चेयरमैन समेत पूर्व मंत्री आजम खान का भी नाम घोटाले में सामने आया है.

मंत्री ने बताया, इस संबंध में सीबीआई जांच के लिए वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भेज चुके हैं और सीएम ने इसे केंद्र सरकार को भी भेज दिया है.

और पढ़े -   बड़ा खुलासा - बीजेपी नेता करता था अधिकारियों को स्कूली छात्राओं की सप्लाई

हालांकि उन्होंने शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी द्वारा हज राज्य मंत्री मोहसिन रजा के खिलाफ लगाए आरोपों पर पूरी तरह बेबुनियाद बताया हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE