आरोप है कि इल्मबाजार के गुरिचा गांव के रहने वाले थर्ड-ईयर कॉलेज स्टूडेंट सुजान मुखर्जी ने सोमवार को मो. पैगंबर साहब के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी।

birbhum_650x400_51456884472

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में भीड़ ने मंगलवार को पुलिस स्टेशन पर हमला कर दिया। सोशल नेटवर्किंग साइट पर पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक पोस्ट लिखने के सिलसिले में पुलिस ने एक छात्र को गिरफ्तार किया था। भीड चाहती थी कि पुलिस उस छात्र को उन्हें सौंप दें, मना करने पर लोग भड़क गये और उन्होंने इल्मबाजार में कई वाहनों के साथ तोड़े-फोड़ भी की। स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे साथ ही फाइरिंग भी की। पुलिस की फाइरिंग में एक आदमी घायल हो गया।

और पढ़े -   अगर बच्चा चोरी की घटना थी तो मारने वाली हजारों की भीड़ में कोई मुस्लिम क्यों नहीं था ?

आरोप है कि इल्मबाजार के गुरिचा गांव के रहने वाले थर्ड-ईयर कॉलेज स्टूडेंट सुजान मुखर्जी ने सोमवार को पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। पुलिस का कहना है कि अपने कमेंट पर विरोध बढ़ता देख सोमवार रात को ही मुखर्जी अपने घर से भाग गया। हालांकि पुलिस ने उसे रात में ही गिरफ्तार कर लिया और इल्मबाजार पुलिस स्टेशन में बंद कर दिया। अगले दिन मंगलवार को भीड़ ने पुलिस स्टेशन को घेर लिया और मुखर्जी को उन्हें सौंपने की मांग करने लगे। पुलिस ने जब आरोपी को सौंपने से मना कर दिया तो भीड़ ने थाने में तोड़फोड़ की और पुलिस के वाहनों का भी क्षतिग्रस्त कर दिया। भीड़ को तीतर-बीतर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। इसके बाद गुस्साए लोगों ने एनएच -60 को ब्लॉक कर दिया। एनएच-60 पर भी भीड़ ने कई वाहनों के साथ तोड़ फोड़ की। (Jansatta)

और पढ़े -   यूपी - दलित अपनाना चाहते हैं इस्लाम धर्म, करते रह गए उलेमाओं का इंतजार

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE