उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश के शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को भंग कर दिया है. ऐसे में अब शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने वक्फ बोर्ड में करोड़ों रुपए के घोटाले और भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर CBI जांच की मांग की है. साथ ही उन्होंने मोहसिन रजा के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की है.

रिज़वी ने कहा कि मैंने कोई अवैध कब्जा या घोटाला नहीं किया. सरकार जिस भी स्तर से जांच करवाना चाहे वो करवा सकती है. मैंने कई बार सीएम योगी से मुलाकात कर वक्फ बोर्ड की जांच करवाने की मांग की. हालांकि उन्होंने वक्फ व हज मामलों के राज्यमंत्री मोहसिन रजा पर उन्नाव में कब्रिस्तान की जमीनों को बेचे जाने का आरोप लगाया है.

और पढ़े -   योगी सरकार की कर्जमाफी - 1.5 लाख के कर्ज के बदले किया गया सिर्फ 1 पैसा माफ

रिजवी ने कहा कि मैं खुद भी चाहता हूं कि वक्फ बोर्ड की जांच हो, क्योंकि जब जांच होगी तो सबसे पहले यूपी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा पहले फंसेंगे. क्योकि चौक स्थित पुरानी मोती मस्ज़िद की जमीन पर अवैध कब्जा करके मोहसिन रज़ा ने अपना घर बनवाया.

उन्होंने कहा, सपा के एमएलसी बुक्कल नवाब, एक ठेकेदार रस्तोगी के साथ मिलकर प्रॉपर्टी डीलर के साथ मिलकर उसी मस्जिद की जमीनों को बेच दिया था. जब हमने उनको नोटिस भेजा तो अब मुझे बदनाम करने के लिए घसीटा जा रहा है.

और पढ़े -   अदालत ने बढ़ती असहिष्णुता पर जताई चिंता, कहा - रोक लगाने की है सख्त जरुरत

रिजवी ने कहा कि मैंने कोई घोटाला नहीं किया, अगर ये लोग सच्चे मुस्लिम हैं तो पूरे वक्फ बोर्ड की जांच कराएं, मैं तैयार हूं. किसने घोटाला किया है, किसके भाई ने जमीन पर कब्जा किया और कौन सा व्यक्ति धर्म गुरू बनकर लोगों को गुमराह कर रहा है, सब साफ हो जाएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE