हरियाणा ने पहली बार इतना हिंसक आंदोलन देखा है। ये आंदोलन कम लूटपाट का षड़यंत्र ज्यादा लगा। कई दुकानें जला दी गईं। कई दुकानों को लूटा गया। मुरथल गैंगरेप के मामले ने तो पूरे प्रदेश को हिला कर ही रख दिया। 20 फरवरी के दिन रोहतक के सुखपुरा चौक स्थित मोबाइल दुकान सैकड़ों हथियारबंद उपद्रवियों के निशाने पर आई। एक के बाद एक दुकान में घुसे लोगों ने बड़ी तसल्ली से शोकेस, गल्ला और मोबाइल के डिब्बे खंगाले। इसी बीच हथियारों से लैस दो लड़के वहां पहुंचे और शीशों को तोड़ना शुरू कर दिया।

प्रदर्शन की आड़ में लूटपाट, आंदोलनकारी थे या लुटेरे

बेखौफ उपद्रवियों ने बड़े आराम से महंगे मोबाइलों को डिब्बों से बाहर निकाला, डिब्बों को फेंका और मोबाइल जेबों में डालकर चलते रहे। एक जाता तो दूसरा आता। मोबाइल महंगा दिखा तो जेब में रख लिया, बेकार सड़क पर फेंक दिए। दुकान से मोबाइल फोन लूटने के बाद उपद्रवियों ने काउंटर को सड़क पर फेंक दिया। इसके बाद उपद्रवियों के निशाने पर आया साथ लगा शू स्टोर। वे दुकानों के पीछे कमरे में बैठकर सीसीटीवी फुटेज को अपने फोन में कैद करते रहे ताकि गुनहगारों को बाद में बेनकाब किया जा सके।

इस दौरान दुकानदार ने पुलिस को भी फोन किया, लेकिन कोई मदद नहीं मिली। मोबाइल लूटने के बाद जब उपद्रवी शू स्टोर में घुसे तो दुकान मालिक की हिम्मत जवाब दे गई।  रोहतक की तबाही देखने और दंगा पीड़ितों से मिलने के लिए बुधवार को विधायक मनीष ग्रोवर ने व्यापारियों से मुलाकात की।

इस दौरान पीड़ित व्यापारियों ने विधायक को सीसी टीवी कैमरों में कैद उपद्रवियों की वीडियो दिखाए और पूरी घटना को बताया। विधायक ने कहा कि प्रदेश में हुई दुखद घटना में दोषी पाए जाने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने व्यापारियों को भरोसा दिलाया कि विभिन्न बाजारों में सुरक्षा की पूरी व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी और पूरे घटनाक्रम की जांच करवाई जाएगी। (liveindiahindi)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें