अलीगढ़ समुदाय मर चुकी है, कोई गुस्सा नहीं, जहाँ के स्टूडेंट संघ नेताओं से प्रधानमंत्री सीधे फोन पर उपलब्ध होते थे, अब उनके आवाज चांसलर ज़मीरउदीन शाह आरएसएस के हाथों संस्थान का ज़मीर बेच रहे हैं। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के इफ्तार कार्यक्रम में जाने की क्या मजबूरी थी?

उनका सलाहकार कौन है? इस समारोह में मालेगांव मक्का मस्जिद और समझौता एक्सप्रेस के एक आरोपी की अध्यक्षता में हो रही थी? यह सवाल उठाया है सामाजिक कार्यकर्ता युवा नेता अमीक़ जामेई ने, जामेई ने आरएसएस के संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की इफ्तार में कुलपति की भागीदारी पर अपने फेसबुक पेज पर कड़ा विरोध दर्ज कराया है।

जामेई ने याद दिलाते हुए कहा है कि उन्हें जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों से सीखना चाहिए, यहां के  छात्रों ने प्रधानमंत्री से कहा जामिया को “आतंकवाद का अड्डा” कहने वाले अपने बयान पर पहले माफी मांगे  और फिर पधारे।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

Related Posts