urs1

बरेली शरीफ में हजरत इमाम अहमद रजा खां फाजिले बरेलवी आला हजरत का उर्स का आगाज बड़े ही खुलूस के साथ हुआ.

इस्लामिया इंटर कॉलेज के मैदान में देश और दुनिया भर से आए अकीदतमंद एकत्रित हुए. परचम-ए-रजा के लहराने के साथ तीन रोजा उर्स-ए-रजवी का आगाज हो गया. मैदान के मुख्य द्वार पर  दरगाह प्रमुख अश्शाह मौलाना सुब्हान रजा खां (सुब्हानी मियां) ने डोर खींच कर परचम कुशाई की रस्म अदा की. डोर खींचने के साथ ही फूल की पंखुड़ियां हवा में बिखर कर जायरीन पर बरसने लगीं और परचम फिजां में लहराने लगा.

इस दौरान पूरा मैदान आला हजरत जिंदाबाद, उर्स-ए-रजवी जिंदाबाद और परचम-ए-रजा जिंदाबाद के नारों से गूंज उठा. इससे पहले सज्जादानशीन मौलाना अहसन रजा खां कादरी के कयादत में परचम को जुलुस की शक्ल में लेकर दरगाह आला हजरत पहुंचे.

चादरें पेश करने के बाद मुख्य परचम लेकर जुलूस उर्स स्थल के लिए रवाना हुआ. फिर परचम को अहसन मियां और सैयद आसिफ मियां ने अल्लामा सुब्हानी मियां को सौंपा, फिर उन्हीं की कयादत में संयुक्त जुलूस उर्स स्थल पहुंचा. फिर सुब्हानी मियांपरचम कुशाई की. रस्म के बाद मुफ्ती मोहम्मद आकिल ने दुआ की.

इस दौरान सुरक्षा के लिहाज से एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने पुलिस अफसरों के साथ उर्स स्थल का जायजा लिया. उन्होंने पार्किंग स्टैंड समेत अफसरों की डयूटी फाइनल की गई है. उर्स में दो एडिशनल एसपी के अलावा छह सीओ समेत एक हजार से ज्यादा पुलिस वालों को तैनात किया गया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE