यूपी के बिजनौर के चांदपुर में तीन तलाक के समर्थन और समान आचार संहिता के विरोध में हजारों मुस्लिम महिलाओं ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन आयोजित किया.

शेख इस्लाह तंज़ीम के बैनर तले हुए यह प्रदर्शन शहर के विभिन्न मार्गों से होता हुआ तहसील कार्यालय पहुंचा. हसील पहुंचकर उन्होंने राष्ट्रपति व पीएम को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा. जिसमें कहा गया था कि मुस्लिम समाज में प्रचलित तीन तलाक को लेकर भारतीय मुस्लिम समाज में जो कुछ घटित हो रहा है. उसमें एक ही पहलू दर्शाकर गलत तथ्यों के आधार पर सच्चाई को छिपाने की कोशिश की जा रही है. इससे मुस्लिम महिलाएं केन्द्र बिंदु होने के कारण अपने मौलिक अधिकारों के हनन की आशंका महसूस कर रही हैं.

और पढ़े -   भैंस ले जा रहे दो मुस्लिम युवकों की अवैध वसूली का विरोध करने पर पिटाई

ज्ञापन में कहा गया है कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय में जो महिलाएं अपना पक्ष रख रहीं हैं. भारतीय महिला मुस्लिम समाज में 99 प्रतिशत से अधिक महिलाएं इस मुद्दे को अपनी धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार के हनन का मामला समझती हैं और मुस्लिम शरीयत में दखलअंदाजी मानती हैं. शरीयत में दखल किसी भी रूप में स्वीकार नहीं होगा.

ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि मुस्लिम शरीयत ने जो समानता, हकूक व सम्मान दे रखा है उसकी छत्रछाया में रहकर हमारा समाज पूरी तरह से संतुष्ट है. हमारी शरीयत में दखलअंदाजी के स्थान पर भारतीय मानसिकता को दूषित करने वाली चीजों से बचाया जाए तथा उक्त तथ्यों में उलझाने के बजाय भाईचारा मजबूत करने की पुरजोर कोशिश की जाए, ताकि देश व समाज का विकास हो सके. ज्ञापन पर नईमा, गुलशन सहित दर्जनों महिलाओं के हस्ताखर थे. एसडीएम ने महिलाओं के आश्वस्त किया कि वे उनकी भावनाओं को राष्ट्रपति तक पहुंचा देंगे.

और पढ़े -   रेल हादसा: नमाज छोड़ मुस्लिमों ने घायलों की जान बचाई, हिंदू संतों ने कहा - नहीं आते तो आज जिंदा नहीं बचते

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE