jia

अखिलेश यादव मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्य राजा भैया की दोबारा से डीएसपी जिया उल हक मर्डर केस में मुसीबते बढ़ सकती हैं. बाहुबली क्षत्रिय नेता व कुंडा के विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया पर डीएसपी हत्याकांड के एक आरोपी पवन यादव ने राजा भैया परजिया उल हककी हत्या कराने का आरोप लगाया हैं. हालांकि इस मामले में सीबीआई ने उन्हें क्लीन चिट दे दी.

हक की हत्या के आरोप में जेल में बंद पवन ने 5 अगस्त 2014 को उनकी पत्नी परवीन को पत्र लिख कर डीएसपी के कत्ल के लिए पूरी तरह राजा भैया को जिम्मेदार ठहराया है. पवन यादव के पत्र के अनुसार राजा भैया का खास आदमी नन्हें सिंह ने ही डिप्टी एसपीजिया उल हकको गोली मारी थी.

और पढ़े -   तीन तलाक पर शरीयत में दखलंदाजी, सुप्रीम कोर्ट का फैसला मंजूर नहीं: दरगाह आला हजरत

पवन यादव ने पत्र में साफ लिखा है कि डीएसपी हत्याकांड की जांच करने आयी सीबीआई ने गंभीरता से प्रकरण की जांच नहीं की है. राजा भैया के खास लोग ही सीबीआई की सेवा में लगे रहते थे. सीबीआई को राजा भैया की तरफ से ही सारी सुविधा मिलती थी, यहां तक की सीबीआई के लोगों को दारू और मुर्गा का इंतजाम भी कुंडा विधायक के लोग ही करते थे.

और पढ़े -   बिहार: गौरक्षकों ने पहले मुस्लिमों की पिटाई, फिर भी पीड़ितों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पवन यादव के पत्र के अनुसार डिप्टी एसपी की गोली मार कर हत्या की गयी थी. इसके बाद उन्हें सड़क पर लिटा दिया गया था. सीबीआई ने भी मामले की जांच की थी और रिपोर्ट में कहा गया था कि मारपीट के दौरान डिप्टी एसपी गिर गये थे और फिर उन्हें गोली मारी गयी थी.

इस चिट्टी के सामने आने के बाद डीएसपी की पत्नी परवीन ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर एसआईटी से जांच कराने की मांग की हैं.

और पढ़े -   डीएम की जांच रिपोर्ट में मिली थी क्लीन चिट, अब सीएम योगी के आदेश पर डॉ कफ़ील के खिलाफ एफआईआर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE