जब घर में जवान व्यक्ति की मौत होती है तो घरवालो से लेकर सगे सम्बन्धियों तक में गम का सन्नाटा पसर जाता है और अगर ये मौत स्वाभाविक ना होकर हत्या हो तो गम के साथ साथ रोष भी आता है हम और आप कल्पना भी नही कर सकते लेकिन पुलिस ने ऐसा कारनामा कर दिखाया| यूपी के भदोही के गोपीगंज में पुलिस पर आरोप है कि चंद्रपुरा डोमनपुर में हत्या कर फेंके गए स्कार्पियो चालक के शव का अंतिम संस्कार करने के बजाय पुलिस के सिपाहियों ने उसे गंगा में फेंक दिया। आरोप ये भी है कि सिपाहियों ने चालक के घर वालों को घाट पर जलाए गए दूसरे शव की राख दिखा दी।

और पढ़े -   बिहार: सामने आया 700 करोड़ का एनजीओ घोटाला, लालू ने बीजेपी नेताओ पर उठाई उंगली

up police inhuman face disclose

पुलिस की इस कारगुजारी की जानकारी होने पर घरवालों ने तलाश की तो शव मिल गया। सूचना के बाद डीआईजी और एसपी भी पहुंचे। एसपी ने गोपीगंज थाने के दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया। मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक को सौंप दी।

बुधवार को मऊ के कोपागंज निवासी 35 वर्षीय युवक की लाश डोमनपुर में मिली थी। गले पर जख्म होने के कारण हत्या की आशंका जताई जा रही थी। शर्ट की कॉलर पर कोपागंज, मऊ का स्टीकर लगे होने की जानकारी घरवालों को मिली तो वे गुरुवार को गोपीगंज पहुंचे।

और पढ़े -   मध्यप्रदेश: शिवराज के मंत्री ने किया स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रध्वज का अपमान

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE