उत्तरप्रदेश की पुलिस का अमानवीय चेहरा हमेशा से अख़बारों की सुर्ख़ियों में रहा हैं, एक और नए मामलें में यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल पैदा कर दिए हैं. गोरखपुर के गगहा थाने के थानेदार ने परवेज आलम निवासी ग्राम गजपुर को पैसो के लेनदेन के आरोप में घर से उठा लिया. पुलिस पर आरोप हैं कि कर्ज के ब्याज की रकम ना चुका पाने के कारण पुलिस ने रोजे में परवेज आलम के साथ बुरी तरह से मारपीट की और उसे इतना पीटा कि वह बेहोश हो गया. जब परवेज ने रोजे में होने की बात कही और पानी मांगा, तो थानेदार ने उसे पेशाब पिलाने तक की धमकी दे डाली.

और पढ़े -   सहारनपुर - योगी राज में अत्याचार को लेकर 180 दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म

प्राप्त जानकारी के अनुसार चौकी प्रभारी आरएन दुबे व सिपाहियों ने पैसे की लेनदेन में कर्जदार परवेज आलम को  जम कर मारा-पीटा. इतना ही नहीं, चौकी प्रभारी आरएन दुबे व सिपाहियों ने उसे पानी मांगने पर पेशाब पिलाने की धमकी दे डाली. इस मामले को लेकर आज गोरखपुर के डीआईजी शिव सागर सिंह से मुसलमानों के एक समूह ने मुलाक़ात की और चौकी प्रभारी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की.

इस घटना की जानकारी होने पर सपा के वरिष्ठ नेता जफ़र अमीन डक्कू भी पीड़ितों के साथ डीआईजी से मिले और पीड़ित को न्याय दिलाने की मांग की.  इस सम्बन्ध में डीआईजी शिव सागर सिंह ने बताया कि मामले को गंभीरता से लिया जाएगा और जांच कराकर जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे, उनपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE