लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने मुस्लि‍म संगठनों के विरोध के बाद उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति में एक से ज्यादा शादियां करने वालों के आवेदन को आयोग्य ठहराने वाला अपना आदेश वापस ले लिया है। सरकार ने स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा है कि ऐसा कोई नियम कभी लाया ही नहीं गया।

urdu-teacher

बेसिक एजुकेशन मिनिस्टर अहमद हसन ने कहा, “सरकार के आदेश पर हस्ताक्षर करने के क्रम में मैंने आज पाया कि इसमें ऐसा कोई नियम नहीं है। इसलिए हमने इस ओर स्पष्टीकरण जारी किया। ये सपा सरकार को बदनाम करने के लिए दुष्प्रचार है।” उन्होंने कहा कि, “जिस आधार पर 2013 में भर्तियां हुई थीं, उसी आधार पर भर्तियां हो रही हैं। हम लोग खुद हैरान हैं कि दो बीवियां होने पर आवेदन से अयोग्य ठहराने की बात कहां से उठी।

गौरतलब है कि प्रदेश में साढ़े तीन हजार उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में एक से ज्यादा शादियां करने वालों को आवेदन से अयोग्य ठहराए जाने की खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि ये मुसलमानों के शरई अधिकारों का हनन है। साभार: sanjeevnitoday


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें