Ballia-UP

उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के नरही इलाके में गो-तस्करी के मामले में भाजपा कार्यकर्ता पर मुकदमा दर्ज किया गया. जिसके बाद मुकदमा दर्ज किए जाने से भड़के पार्टी विधायक के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान एक एक कार्यकर्ता की मौत हो गई. इस मामले में भी अपर जिलाधिकारी और 11 पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है.

पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार झा ने शनिवार को यहां बताया कि नरही थाना क्षेत्र में पुलिस ने शुक्रवार को गाड़ियों की तलाशी के दौरान गोकशी के लिए ले जाई जा रही पांच गाएं बरामद करके भाजपा कार्यकर्ता चंद्रमा यादव समेत दो लोगों के खिलाफ गो-तस्करी का मुकदमा दर्ज किया था.

और पढ़े -   ग्वालियर की आलमगीर मस्जिद में खुदाई के दौरान निकला खजाना

उन्होंने आगे बताया कि यादव गो-तस्करी को लेकर कुख्यात है और उस पर साल 2014 में मउ जिले में भी गो-तस्करी का मुकदमा दर्ज किया गया था. झा ने बताया कि चंद्रमा यादव पर मुकदमे के विरोध में शुक्रवार को भाजपा विधायक उपेंद्र तिवारी अपने समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ नरही थाने के सामने धरने पर बैठ गए थे.

और पढ़े -   योगी सरकार के शुरुआती दो महीनों में हुए 803 बलात्कार और 729 मर्डर

भाजपा कार्यकर्ता की मौत पर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि भाजपा कार्यकर्ता की मौत पुलिस की गोली से नहीं हुई है क्योंकि पुलिस ने गोली चलाई ही नहीं. उसकी मौत कैसे हुई यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही स्पष्ट हो पाएगा.

झा ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में नरही थाना में भाजपा विधायक उपेंद्र तिवारी सहित 35 नामजद और 300 अज्ञात लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या, बलवा करने, सरकारी काम में बाधा डालने तथा दूसरों की जान जोखिम में डालने के आरोपों में मुकदमा दर्ज करके छह लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि विधायक उपेंद्र तिवारी फरार है.

और पढ़े -   उत्तर प्रदेश में शराबबंदी को लागू करना जनहित में नहीं: योगी सरकार

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE