una kand

भगवा संगठनो द्वारा कथित गौहत्या के आरोप में गुजरात के उना में दलितों की पिटाई को लेकर  दलित लेखक अमृतलाल मकवाना ने गुजरात सरकार से मिले एक पुरस्कार को लौटा दिया.

गुजराती दलित साहित्यकार अमृतलाल मकवाना ने बुधवार को अहमदाबाद कलेक्टर ऑफिस में जाकर ‘दासी जीवन दलित साहित्य कृति अवॉर्ड’ लोटा दिया.  साथ ही उन्होंने पुरूस्कार के साथ मिली 25 हजार रुपये की राशि भी लौटा दी. 44 वर्षीय लेखक को अपनी रचना ‘खारापट नु दलित लोक साहित्य’ के लिए साल 2012-13 का दासी जीवन श्रेष्ठ दलित साहित्य कृति पुरस्कार मिला था.

और पढ़े -   भगवा चोले में सामने आया हवस का पुजारी, स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी पर यौन शोषण का मामला दर्ज

उन्होंने बताया कि उन्होंने अधिकारियों को एक संक्षिप्त पत्र मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को संबोधित करते हुए भी दिया है, जिसमें कहा गया है कि उना में दलितों से किए गए बर्ताव को लेकर दुख तकलीफ से यह पुरस्कार लौटा रहा हूं. मकवाना ने यह भी कहा कि ऐसी घटनाएं गुजरात में नियमित रूप से हो रही है, लेकिन सरकार दलितों को न्याय दिलाने के लिए पर्याप्त कार्य नहीं कर रही है.

और पढ़े -   मदरसे के पानी में जहर मिलाने की घटना थी पूर्व नियोजित: सलमा अंसारी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE