हाजी अली दरगाह में जियारत को लेकर लेंगिक समानता के लिए बवाल खड़ी कर चुकी ‘भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड’ की प्रमुख देसाई ने जातिगत भेदभाव के चलते न केवल अपने दलित साथी के साथ मारपीट की बल्कि उसे झूठे केस में फंसाने की भी धमकी दी.

अहमदनगर के चिकित्सक विजय मकसारे की शिकायत पर पुलिस ने तृप्ति देसाई उनके पति प्रशांत सहित अन्य लोगों के खिलाफ दलित उत्पीड़न विरोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया है. मकसारे ने कहा कि कुछ महीने पहले तृप्ति ने उनसे संपर्क कर अपने संगठन में शामिल होने को आमंत्रित किया था जिसके बाद वह संगठन से जुड़ गए.

और पढ़े -   बिहार: 700 करोड़ के सृजन घोटाला में आया बीजेपी नेता विपिन शर्मा का नाम

उन्होंने बताया कि 27 जून की सुबह वह अपनी कार से कहीं जा रहा थे उसी दौरान तृप्ति देसाई और उनके पति प्रशांत देसाई, सतीश देसाई समेत 6 लोगों ने विजय की कार का रास्ता रोका और डंडे और रॉड से उसकी पिटाई करना शुरू कर दिया.

पुलिस को दी शिकायत में विजय ने बताया कि प्रशांत देसाई ने उनके गले से सोने की चेन खींच ली और उनके पास रखे 27 हजार रुपये भी लूट लिए. साथ ही तृप्ति ने विजय पर जातिसूचक टिप्पणी भी की. हालांकि, केस दर्ज होने के बाद तृप्ति देसाई इन आरोपों से इनकार कर रही है.

और पढ़े -   अंधविश्वास से होगा इंसेफेलाइटिस का इलाज, अस्पताल के पलंगों पर बिछाई गई भगवा चादर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE