हाजी अली दरगाह में जियारत को लेकर लेंगिक समानता के लिए बवाल खड़ी कर चुकी ‘भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड’ की प्रमुख देसाई ने जातिगत भेदभाव के चलते न केवल अपने दलित साथी के साथ मारपीट की बल्कि उसे झूठे केस में फंसाने की भी धमकी दी.

अहमदनगर के चिकित्सक विजय मकसारे की शिकायत पर पुलिस ने तृप्ति देसाई उनके पति प्रशांत सहित अन्य लोगों के खिलाफ दलित उत्पीड़न विरोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया है. मकसारे ने कहा कि कुछ महीने पहले तृप्ति ने उनसे संपर्क कर अपने संगठन में शामिल होने को आमंत्रित किया था जिसके बाद वह संगठन से जुड़ गए.

उन्होंने बताया कि 27 जून की सुबह वह अपनी कार से कहीं जा रहा थे उसी दौरान तृप्ति देसाई और उनके पति प्रशांत देसाई, सतीश देसाई समेत 6 लोगों ने विजय की कार का रास्ता रोका और डंडे और रॉड से उसकी पिटाई करना शुरू कर दिया.

पुलिस को दी शिकायत में विजय ने बताया कि प्रशांत देसाई ने उनके गले से सोने की चेन खींच ली और उनके पास रखे 27 हजार रुपये भी लूट लिए. साथ ही तृप्ति ने विजय पर जातिसूचक टिप्पणी भी की. हालांकि, केस दर्ज होने के बाद तृप्ति देसाई इन आरोपों से इनकार कर रही है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE