जरीडीह बाजार जामा मस्जिद मैदान में मुस्लिम पर्सनल लाॅ बेदारी मुहिम के तत्वावधान में जलसे का आयोजन किया गया. जिसमें समाज के तमाम उलमाओं ने मुस्लिम पर्सनल लाॅ जागरूकता अभियान के तहत जलसे को संबोधित किया.

दिल्ली से आए मौलाना नईम ने कहा कि हमारे देश की एक बड़ी आबादी को इस्लाम के बारे में बहुत कम जानकारी है. इस कारण वे गलतफहमी के शिकार हो जाते हैं, तो कुछ जानबूझ कर एतराज करते हैं. आजकल तीन तलाक को लेकर गलतफहमियां फैलाई जा रही हैं। जो इस हद तक बढ़ती है कि मर्द एक ही वक्त में तीन तलाक दे बैठता है. इस वजह से कुछ ही देर में एक बसा-बसाया घर उजड़ जाता है.

और पढ़े -   बच्चों की मौतों पर योगी सरकार से हाईकोर्ट ने मांगा जवाब

उन्होने कहा कि एक ही वक्त में तीन तलाक देना सख्त गुनाह है। रांची से आए मौलाना तलहा नदवी ने जलसे को संबोधित करते हुए कहा कि मर्द औरत के बीच अलग होने के लिए सिर्फ एक तलाक काफी है. एक साथ तीन तलाक देना सख्त गुनाह है. मामूली बातों और गुस्से में तलाक दे बैठना मुनासिब नहीं है. याद रखना चाहिए कि जिस तरह निकाह के वक्त अजनबी मर्द और औरत शादी के बंधन में बंधते हैं. इसी तरह तलाक देने से यह मजबूत रिश्ता खत्म भी हो जाता है. फिर नफरत और दुश्मनी दोनों खानदानों तक पहुंचती है.

और पढ़े -   रियल में शुरू हुई 'टॉयलेट एक प्रेमकथा', शौचालय के लिए महिला ने मांगा तलाक

मौलाना शमीमुल कादरी ने कहा कि मियां-बीवी के रिश्ते को खत्म करने में जल्दबाजी से काम नहीं लें, बल्कि मर्द औरत को समझाए. रहीमगंज फुसरो के इमाम मौलाना इरफान नदवी, जरीडीह नीचे बाजार अहले सुन्नत बरकाती मस्जिद के इमाम मौलाना पीर मो कादरी ने भी जलसे को संबोधित किया. मंच संचालन जमात-ए-इस्लामी हिन्द के नौशाद आलम यूएमएफ के अफजल अनीस ने किया.

और पढ़े -   पंजाब: एक बार फिर से कुरान की बेअदबी, पुलिस को मिला 24 घंटे का अल्टीमेटम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE