गुजरात से लेकर राजस्थान तेज बारिश के कारण बाढ़ से प्रभावित ऐसे में दोनों ही राज्यों में हजारों गायें मर रही है लेकिन गौरक्षा के नाम पर लोगों की जान लेने वाले गौरक्षक अब नजर नहीं आ रहे है.

राजस्थान में आई बाढ़ की वजह से जालोर और सिरोह जिले की गौशालाओं में अब तक 800 गाय मर चुकी हैं. पथमेड़ा गोशाला को दुनिया की सबसे बड़ी गोशाला माना जाता है. गुरुवार को राज्यभर की गौशालाओं में 200 गायों के मरने की पुष्टि की गई थी और इससे पहले बुधवार को भी 547 गायों की जान गई थी. अभी भी 4 हजार गायों की स्थिति बेहद खराब है.

और पढ़े -   गुजरात: फिर सामने आया ऊना कांड, दलित युवक और महिला की नग्न कर पिटाई

बहुसंख्यक की आस्था के इस एवरेस्ट की रक्षा के लिए न तो अब कोई नेता आगे आ रहा है और नहीं कोई सन्यासी. पथमेड़ा गौशाला के प्रवक्ता पूनम राजपुरोहित ने कहा, पथमेड़ा में पानी के सैलाब और चारा नहीं मिल पाने की वजह से भी गाय दम तोड़ रही है. गायों को चारा नहीं मिल रहा है, जो बचा है वह भी बह गया.

और पढ़े -   गोरखपुर: अभी जारी है बच्चों की मौत का सिलसिला, दो दिनों में 35 और बच्चों की मौत

इस गौशाला मे गायों की एक दिन की खुराक एक करोड़ की है. हालांकि, अब राजस्थान सरकार ने सफाई दी कि गौशाला में मेडिकल टीमें भिजवा दी गई हैं और चारे का इंतजाम किया जा रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE