पश्चिम बंगाल में एक हिंदू लड़की ने मदरसा परीक्षाओं में टॉप 10 में जगह बनाकर इतिहास रचा है. खलतपुर हाई मदरसा की प्रशामा साशमल पहली हिंदू धर्म से आने वाली लड़की है जिसने मदरसा परीक्षा में टॉप 10 में जगह बनाई हो. प्रशामा ने मदरसा की माध्यमिक स्कूल की परीक्षा में आठवां स्थान प्राप्त किया है.

परीक्षा के नतीजों की घोषणा मंगलवार को हुई थी. याद रहे पहले कई हिंदू छात्र टॉप 10 में आ चुके हैं लेकिन इस बार एक गैर-मुस्लिम लड़की का टॉप 10 में जगह बनाना एक नया रिकॉर्ड है. ‘इस्लाम का परिचय’ विषय में प्रशामा को 100 में से 97 अंक मिले हैं. प्रशामा भौतिक शास्त्र में शोध करना चाहती हैं.

और पढ़े -   कर्नाटक के वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमरुल इस्लाम का हुआ निधन

प्रशामा ने अपने रिजल्ट के बारें में बीबीसी से कहा कि “मैं ख़ुश हूं कि मुझे अच्छा रैंक मिला. मैंने सारी परीक्षाएं अच्छे से दी थीं और उम्मीद कर रही थी कि नतीजे और बेहतर होंगे. मेरे टीचर और माता-पिता भी मुझसे काफी ख़ुश हैं.”

हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हुए अरबी और ‘इस्लाम का परिचय’ विषय पढ़ने के बारे में प्रशामा कहती हैं, “ये भी तो अन्य विषयों की ही तरह हैं. मुझे दूसरे सब्जेक्ट की तरह ये भी काफ़ी पसंद हैं. मैं कक्षा छह से इस मदरसे में पढ़ रही हूं और शुरू से ही टीचर्स ये सुनिश्चित करते थे कि हम सभी बच्चे इन दोनों विषयों को समझ पा रहे हैं या नहीं.”

और पढ़े -   मोदी सरकार ने दी हजारों चकमा और हजोंग शरणार्थियों को नागरिकता, जल उठा अरुणाचल प्रदेश

बता दें कि पश्चिम बंगाल में मान्यता प्राप्त मदरसों में कई गैर-मुस्लिम बच्चे पढ़ते हैं. मदरसे के हेडमास्टर का कहना है कि अब वो दिन नहीं रहे जब लोग सोचते थे कि मदरसे सिर्फ मुसलमालों के लिए हैं. स्कूल हों या मदरसे, जहां भी अच्छी पढ़ाई होती है माता-पिता बच्चों को भेजते हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE