नागपुर: इस्लामिक संगठन असताफातुर रजिया के बैनर तले शहर के तमाम उलेमाओं ने देश भर के मुसलामानों से शादियों में बैंड बाजे सहित सभी प्रकार की फिजूल खर्ची से बचने की अपील की हैं.

उलेमाओं ने कहा कि मुसलमानों को शादी में बैंड -बाजा और शानो-शौकत दिखाने के बजाय नबी ए करीम (सल्ल.) की के तरीकों यानि सुन्नतों पर अमल करते हुए सादगी के साथ शादी करनी चाहिए.

और पढ़े -   इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर गिराया जाएगा मस्जिद का एक हिस्सा

उन्होंने कुरआन ए पाक की आयत अल- अरफ का हवाला देते हुए कहा कि अल्लाह फिजूल खर्ची को ना पसंद फरमाया हैं इसलिये अगर शादी में फिजूल खर्ची और दिखावा कर रहे हैं तो अल्लाह के हुक्म को मानने से इनकार कर रहे हो.

संगठन के प्रेसिडेंट मौलाना अतिक-उर-रहमान ने कहा, कुरआन और हदीस का हुक्म हैं कि हम अपनी शादियों को सादगी और कम खर्चों के साथ करे. शादियों में पटाखे, बैंड बाजा नाच गाने जैसे पैसे लगाना गुनाह है.

और पढ़े -   सप्ताह में एक बार स्कूलों और दफ्तरों में 'वंदे मातरम' बजना अनिवार्य: मद्रास हाईकोर्ट

[ हिंदुस्तान की महिलाओं को अपने आप को ढक कर रखना चाहिए : जगद्गुरु माते महादेवी ]

उन्होंने आगे बताया कि उनका संगठन हर हफ्ते सेमिनार करके मुसलमानों को शादी करने के सुन्नती और जायज़ तरीके बता रहा हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि लोगों को ये भी समझाया जा रहा हैं कि दौलत खुदा की नेमत है और इसका सही जगह पर करना चाहिए.

और पढ़े -   अमेरिका के दखल से कश्मीर भी सीरिया और इराक बन जाएगा: महबूबा मुफ़्ती

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE