abdul

जम्मू-कश्मीर में अवामी इत्तिहाद पार्टी(एआईपी) के प्रमुख इंजीनियर अब्दुल रशीद ने कहा है कि कश्मीर समस्या के निपटारे और राज्य में शांति के लिए नियंत्रण रेखा के दोनों तरफ जनमत संग्रह ही एक मात्र विकल्प है.

इंजीनियर रशीद की अगुवाई वाले पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने आज यहां नेहरु विश्राम गृह में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर कहा कि कश्मीर मुद्दे के समाधान का एकमात्र तरीका नियंत्रण रेखा (एलओसी) के दोनों ओर ‘जनमत-संग्रह’ कराना.

पार्टी के एक प्रवक्ता के अनुसार रशीद ने कहा कि भारत सरकार को समझना चाहिए कि जिम्मेदारी एक दूसरे पर डालना और हल निकालने से बचना ही एकमात्र वजह है जिसकी वजह से 1947 से जम्मू कश्मीर में हिंसा होती रही है.

उन्होंने आगे कहा, ‘जब हम जम्मू कश्मीर के विवाद को सुलझाने की बात करते हैं तो हम यह कभी सांप्रदायिक आधार पर नहीं कहते बल्कि हम मानते हैं कि जम्मू कश्मीर के दोनों हिस्सों और लद्दाख की जनता को आत्मनिर्णय का अधिकार होना चाहिए और इस मुद्दे को समग्र तरीके से देखा जाना चाहिए, न कि क्षेत्रीय, धार्मिक या जातीय आधार पर.

प्रवक्ता के मुताबिक रशीद ने सिंह को याद दिलाया कि जिस नेहरू गेस्ट हाउस में गृह मंत्री विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात कर रहे हैं, उसी जगह केंद्र ने पांच उग्रवादी कमांडरों से बात की थी. रशीद ने कहा, ‘इसलिए भारत सरकार के पास विवाद के समाधान के लिए उग्रवादियों समेत वास्तविक प्रतिनिधियों से बात नहीं करने को जायज ठहराने का कोई तर्क नहीं है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें