ameena

मॉरिशस की राष्ट्रपति अमीना गरीब फकीम देवा शरीफ स्थित सैयद हजरत हाजी वारिस अली शाह के दर पर जियारत के लिए पहुंची. उन्होंने दरगाह पर चादर पेश कर दुआ की। मजार पर चादर चढ़ाने के बाद राष्ट्रपति ने पत्रकारों से कहा कि कोई भी धर्म आतंकवाद का सबक नहीं सिखाता है।

उन्होंने कहा, ‘‘सूफी संत शांति का संदेश देते हैं। कोई भी धर्म आतंकवाद का सबक नहीं सिखाता है। आतंकवादी का कोई धर्म-मजहब नहीं होता है। उन्होंने कहा कि अशांति कोई पसंद नहीं होता।

और पढ़े -   मोदी सरकार ने जारी नहीं किया स्कॉलरशिप फंड, 250 कश्मीरी स्टूडेंट्स को यूनिवर्सिटी ने निकाला

राष्ट्रपति ने महिलाओं के संबंध में कहा कि अगर महिलाओं को समाज का सहयोग मिलता रहे तो वह महिलाएं आगे बढ़ सकती हैं। महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए समाज के लोगों को सहयोग करना चाहिए।

रगाह परिसर में करीब एक घंटे तक रुकीं राष्ट्रपति जब देवा से जाने लगीं तो कहा कि वह चाहती हैं कि भारत देश में अमन-चैन कायम रहे।

और पढ़े -   BMC ने मुंबई के स्कूलों में वंदे मातरम को गाना किया अनिवार्य

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE