meh

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घाटी में चार महिने से फैली हिंसा में गिरफ्तार किए प्रदर्शनकारीयों के खिलाफ मुकदमों की समीक्षा करने को कहा हैं. जिसके तहत महबूबा सरकार पहली बार पत्थरबाजी में शामिल किये गये गिरफ्तार युवाओं के खिलाफ रम रुख अपनाएगी.

इस बारें में उन्होंने कहा, ‘हमलोग उन मामलों की समीक्षा करेंगे जिनमें छात्र और पहली बार ऐसा करने वाले शामिल होंगे. हमलोग उनके माता-पिता से बात करेंगे और उनकी ओर से यह भरोसा लेंगे कि उनका बच्चा भविष्य में प्रदर्शन में भाग नहीं लेगा.’

और पढ़े -   मध्यप्रदेश: वरिष्ट बीजेपी नेता का बेटा एक साल के लिए जिला बदर, दंगा कराने का भी है आरोप

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हम लोगों को गिरफ्तार करते नहीं रह सकते. स्थिति को संभालने के लिए एक अलग एवं सहानुभूति रखने वाली योजना चाहिए.’ वह संभागीय एवं जिला स्तरीय प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों की एक बैठक को संबोधित कर रही थीं.

महबूबा ने कहा, ‘कश्मीर ने पिछले कुछ महीनों से बहुत दर्दनाक और हताशा वाले हालात को देखा है. अब जब स्थिति सामान्य हो रही है तो हमलोगों को जनता को उस दुख, जटिल स्थिति से बाहर निकालने और उनके जख्मों को भरने के लिए एक विस्तृत कार्ययोजना बनानी चाहिए.

और पढ़े -   नरौदा पाटिया नरसंहार मामलें में गवाह ने कहा - दंगाईयों की भीड़ में बाबू बजरंगी को नहीं देखा था

इसके अलावा उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जो लोग हिंसा में मर गए या घायल हैं उनके परिवार वालों से संपर्क बनाने की कोशिश करनी चाहिए. इसके साथ ही ऐसी रणनीति भी बनानी चाहिए ताकि उनका दुख कम हो सके.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE