महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार के मुस्लिम छात्रों के लिए मुंबई हज हाउस में चल रही आईएएस कोचिंग संस्थान खटकने लगी हैं. केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय ने इसे बंद करने का फैसला किया हैं.

हज हाउस में चलने वाली आईएएस एंड एलाइड सर्विसेज कोचिंग एंड गाइडेंस सेल ने हर साल 40 से 50 छात्र व छात्राओं को इन्ट्रेन्स परीक्षा के माध्यम से ट्रेनिंग देती हैं.

ऐसे में अल्पसंख्यक मंत्रालय का मानना है कि मुस्लिम छात्रों व छात्राओं को आईएएस प्रशिक्षण देना हज कमेटी का काम नहीं है. हालांकि 2010 से शुरू होने वाली इस कोचिंग ने 2015 तक देश को आईपीएस और दो आईआरएस अधिकारी दिया हैं.

और पढ़े -   दीजिए मुबारकबाद: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 11 छात्र बनेंगे जज

गौरतलब है कि इससे पहले केंद्रीय हज कमेटी विदेश मंत्रालय के अंदर थी, तब उसे आईएएस क्लास का सरकारी स्तर पर एतराज़ का सामना नहीं करना पड़ा था लेकिन अल्पसंख्यक मामलों के अधीन आने के बाद अब आपत्ति जताई जा रही है. केंद्रीय हज कमेटी भारतीय हज यात्रियों को हज व्यवस्था करने के अलावा मुस्लिम छात्रों और छात्राओं के लिए एक महत्वपूर्ण कार्य करती है.

और पढ़े -   मराठवाड़ा में रोज दो से तीन किसान कर रहे आत्महत्या: सरकारी रिपोर्ट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE