kashmir_srinagar

9 जुलाई को सुरक्षा जवानों के हाथों हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद भड़की हिंसा और विरोध प्रदर्शनों का दौर अब भी समाप्त नहीं हुआ हैं. हालांकि करीब पिछले तीन महीनों से लगे कर्फ्यू से लोगों को निजात मिल गई हैं लेकिन जनजीवनअब भी प्रभावित हैं.

पुलिस के मुताबिक कश्मीर घाटी के किसी भी हिस्से में अब कर्फ्यू नहीं लगाया गया है पर, एहतियात के तौर पर दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग और पुलवामा तथा मध्य कश्मीर के गंदेरबल में लोगों के एकत्र होने पर पाबंदियां जारी हैं. हालांकि कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए श्रीनगर समेत घाटी के अन्य हिस्सों में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों तथा राज्य पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है.

श्रीनगर की ऐतिहासिक जामिया मस्जिद में नौ जुलाई के बाद से शुक्रवार की नमाज अदा हुई हैं. अब भी मस्जिद पर के बाहर सुरक्षा बलों का पेहरा हैं.  घाटी में शुरू हुई इस हिंसा में अब तक 95 के करीब लोगों की जान जा चुकी हैं. और हजारों घायल हैं.

ज्यादातर लोग पेलेट गन से घायल हुए जिनमे हजारों की आँखों की रौशनी जा चुकी हैं. इनमे कई बच्चें भी शामिल हैं. अलगाववादी नेताओं ने बंद को और आगे बड़ा दिया हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें