छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले के कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने अपनी बच्ची का दाखिला जिले के ही सरकारी स्कूल में कराकर मिसाल पेश की है. पहले उन्होंने अपनी बेटी को 9 माह तक आंगनबाड़ी में पढ़ाया था.

शिक्षा के मामले में संवेदनशील माने जाने वाले अवनीश शिक्षा को लेकर लापरवाही बर्दाश्त नहीं करते. इस बारें में उन्होंने कहा कि ये बात मीडिया के लिए एक खबर हो सकती है, लेकिन मेरे लिए तो सिर्फ एक कर्तव्य है. इस पहल से हो सकता है लोग सरकारी स्कूलों की शिक्षा से जुड़ें.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन में लिखा, बीजेपी ने दिखाया मुस्लिम नेता को बाहर का रास्ता

उन्होंने कहा कि बलरामपुर में हाल ही में शुरू हुए प्रज्ञा प्राथमिक शाला में अपनी बेटी वेदिका शरण का पहली कक्षा में एडमिशन कराया है. इससे पहले उन्होंने अपनी बच्ची को एक साल तक आंगनबाड़ी में पढ़ने के लिए भेजा था.

आपको बता दें बलरामपुर जिले में लोगों को शिक्षा के प्रति जागरुक करने के लिए उड़ान और पहल जैसी योजनाएं भी लॉन्च की. इन योजनाओं की तारीफ खुद सूबे के मुखिया सीएम रमन सिंह कर चुके हैं.

और पढ़े -   योगी राज: गरीब और कुपोषित बच्चों का मिड-डे मील गायों को खिलाया जा रहा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE