केरल के बिशप ने हिंदू युवक को किडनी दान में दी, कहा - दूसरे धर्म से आपत्ति नहीं

केरल के मल्लापुरम में 30 साल का सूरज पिछले डेढ़ साल से किडनी खराब होने के कारण अस्पताल में भर्ती है। सूरज पिछले डेढ़ साल से डायलिसस पर चल रहे हैं। सूरज के परिवार में उनके अलावा कोई कमाने वाला नहीं हैं। ऐसे में उनका परिवार हिम्मत हार चूका था तब अचानक उन्हें पता चलता है कि कोई है जो उसे किडनी दान करना चाहता है। कोट्टायम के बिशप जेकब मुरिकन उनके लिए एक फ़रिश्ता बनकर आते हैं।

और पढ़े -   बिहार: गौरक्षकों ने पहले मुस्लिमों की पिटाई, फिर भी पीड़ितों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

जेकब मुरिकन ऐसे पहले कार्यरत बिशप हैं जिन्होंने जीवित रहते हुए स्वेच्छा से किडनी दान करने का फैसला लिया है। सूरज कहते हैं ‘जब हालत बहुत खराब हो गई मैंने तभी इलाज करवाना शुरू किया और अब डेढ़ साल बीत गया है। अब मुझे पता चला है कि एक बिशप हैं जो मुझे किडनी दान करने के लिए राज़ी हो गए हैं। मेरे लिए यह भगवान की देन ही है।’

और पढ़े -   राष्ट्रगान ना गाने पर योगी सरकार करेगी मदरसों पर एनएसए के तहत कार्रवाई

उधर बिशप का कहना है कि उन्हें इस बात से कोई आपत्ति नहीं कि वह किडनी किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति को दान कर रहे हैं। वह इसे अपने संदेशों को कर्म में बदलने का एक मौका भर मान रहे हैं। बिशप कहते हैं ‘हमारा चर्च और पोप फ्रांसिस अंग दान में यकीन रखते हैं। यह चर्च की मान्यताओं के अनुकूल है। मुझे लगता है ऐसा करने से मेरे आसपास के लोगों को भी अंग दान करने के लिए प्रेरणा मिलेगी।’ सूरज की सर्जरी जून के पहले हफ्ते में हो सकती है।

और पढ़े -   एक लाख से ज्यादा डिलेवरी करवाने वाली 'डॉक्टर दादी' का हुआ निधन

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE