छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान ने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली है. इस महीने में सीआरपीएफ के तीन जवानों ने आत्महत्या की है.

पुलिस अधिकारियों के अनुसार जिले के दोरनापाल थाना क्षेत्र के अंतर्गत पेंटा गांव में स्थित सीआरपीएफ के 150 वीं बटालियन के शिविर में आरक्षक दिवाकर राव (37) ने अपने सर्विस रायफल से अपने बैरक में खुद को गोली मार ली. साथी जवानो ने खून से लथपथ दिवाकर को दोरनापाल शिविर पहुंचाया, जहां इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई.

और पढ़े -   गौशाला में गौ-माताओं को मार कर खालों की तस्करी करता था बीजेपी का गौभक्त नेता

दिवाकर आंध्रप्रदेश के श्रीकाकुलम जिले का निवासी था. दिवाकर के आत्महत्या के कारणों के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है.  इससे पहले 9 मई को बीजापुर के जांगला में पदस्थ सीआरपीएफ के जवान सुखविंदर सिंह ने आत्महत्या कर ली थी. अब तक उनकी आत्महत्या के कारणों का भी पता नहीं चल पाया है.

सरकारी आकड़ों के अनुसार 2015 के अंत तक पांच साल में नक्सली इलाकों में सीआरपीएफ के 870 जवान तनाव के कारण मारे गये हैं. इसकी तुलना में नक्सलियों द्वारा मारे गये सीआरपीएफ के जवानों की संख्या 323 है.

और पढ़े -   उत्तर प्रदेश में भी बाढ़ का कहर जारी, हुई अब तक 69 लोगों की मौत

वहीँ 2009 के जनवरी माह से 2013 के दिसंबर माह तक नक्सली इलाकों में तैनात सीआरपीएफ के 642 जवान हृदयाघात से मारे गये तथा 228 ने अवसाद के कारण आत्महत्या कर ली. इसी अवधि में मलेरिया से मरने वाले जवानों की संख्या 108 है.

सरकारी आकड़ों के अनुसार सीएपीएफ में सबसे ज्यादा आत्महत्या सीआरपीएफ के जवान करते हैं. पिछले चार सालों में पूरे देश में सीआरपीएफ में 137 आत्महत्या, आईटीबीपी में 12 आत्महत्या, एसएसबी में 26 आत्महत्या, सीआईएसएफ में 50 आत्महत्या और एआर में 32 आत्महत्या के मामले सामने आये हैं.

और पढ़े -   आदिवासी के घर खाना खाने पहुंचे अमित शाह, शौचालय को लेकर हुई फजीहत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE