AMU-620x400

अलीगढ – पिछले सप्ताह यूनिवर्सिटी कैंपस में हुई हिंसा में सम्बन्ध में पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है, मुहम्मद ज़ोहरेज़ जो विधि संकाय में पीएचडी का छात्र है SIT (स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम) ने धौर्रा से गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है

मीडिया की खबर के अनुसार इस गिरफ्तारी से पुलिस टीमें बड़ी राहत में हैं और जोरेज ने 2011 में एएमयू छात्र संघ का चुनाव भी लड़ा था। जोरेज मूल रूप से अमरोहा का रहने वाला है। उसकी पत्नी एएमयू में कार्यरत है और वह खुद पीएचडी का छात्र है। 2011 में एएमयू छात्रसंघ का चुनाव लड़ने के बाद से वह एएमयू की राजनीति में सक्रिय हो गया था। उस दौरान जोरेज पर हमला भी हुआ था।

और पढ़े -   शिवराज सरकार ने बनवाए भगवा शौचालय, मंदिर समझकर महिला पहुंच गई पूजा करने

Screenshot_28

गिरफ्तारी के बाद जब जोरेज से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि वह मोहसिन द्वारा प्राक्टर कार्यालय में दी गई तहरीर के विपक्ष में अपनी शिकायत दर्ज कराने अपने कुछ साथियों सहित गया था। बातचीत चल रही थी, तभी कुछ लोगों ने फायरिंग कर दी। मगर वह कौन थे, वह खुद नहीं जानता। जब उससे सीसीटीवी के साक्ष्यों पर चर्चा हुई तो उसने चुप्पी साध ली। जोरेज को दुपहर में पहले सीजेएम न्यायालय में पेश किया गया, मगर सीजेएम के न होने के कारण लिंक एसीजेएम न्यायालय में पेश किया गया।

और पढ़े -   बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर पर 11 छात्राओं ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

जहां रिमांड पर लेकर उसे जेल भेज दिया गया। इस दौरान अधिवक्ताओं की ओर से जमानत याचिका दायर की गई। मगर अदालत ने उसकी जमानत खारिज कर दी। अब इस मामले में शुक्रवार को सत्र न्यायालय में जमानत दायर की जा सकती है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE