राम मंदिर और बाबरी मस्जिद का मामला देश की सर्वोच्च अदालत में लंबित है, बावजूद इसके योगी सरकार की सहमति से राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में पत्थर पहुँचाया जा रहा है. एक बार फिर से तीन ट्रक पत्थरों की खेप अयोध्या पहुंची.

बुधवार को दूसरी खेप में करीब सवा दो सौ टन पत्थर तीन ट्रकों में राजस्थान से कारसेवकपुरम पहुंचे. विहिप के मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया कि सपा सरकार ने विधिक कार्रवाई पूर्ण करने के बाद भी फॉर्म 32 पर रोक लगा दी थी। अब प्रदेश में भाजपा सरकार बनते ही फिर पत्थरों की आपूर्ति शुरू हो गई है.

और पढ़े -   आज़ादी के 70 साल बाद भी जातिवाद, ऊंच-नीच, भ्रष्टाचार से आज़ादी की ज़रूरत : फैसल लाला

उन्होंने बताया कि ट्रकों से लाए गए पत्थरों को कारसेवकपुरम स्थित विहिप मुख्यालय पर उतरवाया गया है. बाकि के पत्थर की सप्लाई भी आने वाले एक या दो दिनों में हो जाएगी. उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए 100 ट्रक से ज्यादा पत्थरों की आवश्यकता होगी.  पांडेय ने कहा कि अब प्रदेश में बीजेपी की सरकार है. इसलिए अब मंदिर निर्माण में कोई रुकावट सामने नहीं आएगी.

और पढ़े -   गौशाला में गौ-माताओं को मार कर खालों की तस्करी करता था बीजेपी का गौभक्त नेता

इसको लेकर लखनऊ यूनिवर्सिटी की पूर्व कुलपति रूप रेखा वर्मा ने कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है. इसलिए इस तरह की गतिविधियां गैर कानूनी हैं और देश के खिलाफ है. इससे सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ सकता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE