st

मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार द्वारा सरकारी कॉलेजों में एससी/एसटी वर्ग के छात्रों को बांटे जा रहे बैग को लेकरर कोहराम मच गया हैं. दरअसल इन बैग पर कॉलेज के नाम के साथ एससी/एसटी भी लिखा हुआ हैं. बैग पर एससी/एसटी लिखा होने के कारण छात्र बैग लेने से मना कर रहें हैं.

ताज़ा मामला मंदसौर में पेश आया जहाँ पर राजीव गांधी पीजी कॉलेज में करीब 600 एससी/एसटी छात्र में से करीब 250 छात्रों को ये बैग दिए गये. एससी/एसटी स्कीम’ लिखा होना से छात्रों को अपमानित होना पड़ रहा हैं. क्योंकि इससे उनकी जाति का पता चल रहा हैं.

और पढ़े -   लालू की सांसद बेटी मीसा भारती के सीए को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने किया गिरफ्तार

कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने इस मामलें को लेकर कहा कि आरएसएस द्वारा संचालित मध्यप्रदेश सरकार ने साबित कर दिया की वह किस तरह से दलित और आदिवासी विरोधी है. एससी-एसटी वर्ग के छात्रों के माथे पर जिस तरह से जाति सूचक बस्ते वितरित किये गए वह शर्मनाक है. बच्चों के बस्तों पर जिस तरह से जाति सूचक जानकारी छपवाई गयी है वह भारतीय जनता पार्टी की दलित-आदिवासी विरोधी मानसिकता को उजागर करती है.

और पढ़े -   अगर बच्चा चोरी की घटना थी तो मारने वाली हजारों की भीड़ में कोई मुस्लिम क्यों नहीं था ?

वहीँ  कॉलेज के प्रिंसिपल बीआर नालव्या का कहना है कि ‘सप्लाइय ने ही बैग पर यह लिखा है. ये बैग वेलफेयर स्कीम के तहत बांटे गए है. उन्होंने कहा कि किसी को अगर इससे समस्या है तो मैं बैग पर लिखे शब्दों को हटा दूंगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE