muslims-are-lazy-why-hindi-news

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के वाइस चांसलर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) जमीरुद्दीन शाह ने स्‍मृति ईरानी के साथ अपने अनुभव के बारें में कहा कि ईरानी को मानव संसाधन मंत्री के रूप में वाइस चांसलर्स के प्रति सम्‍मान दिखाना चाहिए था.

शाह ने कहा, ”इस तरह की बातें (शिक्षकों के साथ रिश्‍ता) कई बार अखबारों में छपी. मुझे लगता है कि उन्‍हें वाइस चांसलर्स को उनकी उम्र व अनुभव देखते हुए और सम्‍मान देना चाहिए था.”

गौरतलब रहें कि आठ जनवरी को केरल के मल्‍लापुरम कैंपस की फंडिंग को लेकर स्‍मृति ईरानी ने केरल के पूर्व सीएम ओमन चांडी और लोकसभा सांसद ईटी मोहम्‍मद बशीर से मीटिंग के दौरान शाह को बाहर जाने को कहा था. मीटिंग के दोरान जब वीसी जमीरुद्दीन शाह कमरे में आए तो ईरानी ने उनसे कहा कि आपको नहीं बुलाया गया.

शाह ने इस बारें में कहा, ”केरल सीएम के साथ जाने वाले डेलीगेशन का मैं सदस्‍य था. वह नहीं चाहती थीं कि मैं इसमें हिस्‍सा लूं. जिस तरह से उन्‍होंने मुझसे व्‍यवहार किया… बाद में मैंने उनसे कहा कि मैं इसकी प्रशंसा नहीं करता. लेकिन वह मामला अब खत्‍म हो चुका है.”


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें