सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो

गया: इस बिहार का जंगल राज कहें या कुछ और जहाँ दिन दहाड़े एसएचओं की गोली मारकर हत्या कर दी जाती है. जहाँ पुलिस के आला अधिकारी ही सुरक्षित नही है वहां जनता किस कदर सुरक्षित होगी यह समझ पाना मुश्किल है. ख़बरों के अनुसार थाना प्रभारी क़यामुद्दीन अंसारी की गोली मार कर हत्या कर दी, जब वह सुबह की सैर के लिए बाहर निकले थे.अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है.

और पढ़े -   रेप मामले में 10 करोड़ के बदले मिली थी पूर्व सपा नेता गायत्री प्रजापति को जमानत

क़यामुद्दीन अंसारी, 2009 बैच के अधिकारी थे और एसएचओ के पद पर कार्यरत थे. सुबह की सैर के लिए जब वह घर से निकले तो तीन अज्ञात बंदूकधारियों ने उस पर गोलीबारी शुरू कर दी. हमलावर, एक मोटरसाइकिल पर आए थे, अंसारी पर अंधाधुंध गोलीबारी करके घटनास्थल से भाग गए.

डीआईजी, सौरभ कुमार का बयान है कि 3 बाइक सवारों ने इस घटना को अंजाम दिया है। उन्होंने एसएचओ कयामुद्दीन अंसारी पर चार राउंड फायरिंग की। कयामुद्दीन अंसारी कोटची थाने के थाना इंचार्ज थे। एक अस्पताल में अंसारी के शव की पोस्टमार्टम जाँच शुरू हो चुकी है.

और पढ़े -   शमशान में इलाज के बहाने तांत्रिक ने किया था महिला से बलात्कार, मिली 7 साल की सजा

डीआईजी सौरभ कुमार के अनुसार हमलावर संदिग्ध तौर पर माओवादी हो सकते हैं। फिलहाल ये एक गंभीर विषय है और इस पर जांच शुरू कर दी गयी है। ये घटना बिहार में कानून और व्यवस्था की स्थिति पर सवालिया निशान बनाती है यह घटना कोठी पुलिस थाने से महज 200 मीटर दूरी पर घटी, लेकिन अपराधी गोलीबारी करके आसानी से बच कर निकल गये|

और पढ़े -   मध्यप्रदेश में 15 दिन में 22 किसानों ने की आत्महत्या, बीजेपी कर्जमाफ़ी को बता रही फैशन

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE