भारत में अब इंसानों के बाद गायों के भी आधार कार्ड होंगे.  हालांकि फिलहाल तो मध्यप्रदेश की गायों को ही ये आधार कार्ड मिलेगा.

प्रदेश की शिवराज सरकार ने गायों की तस्करी पर रोक लगाने के मकसद से ये फैसला किया है. शुरूआत में धार, खरगोन, शाजापुर और आगर जिले में ये योजना शुरू की जायेगी.

इस योजना के तहत प्रत्येक गाय को एक यूनिक आईडेन्टिफिकेशन कोड दिया जाएगा. जिससे उसकी पहचान होगी. इसके लिए पशुपालन विभाग अधिकारियों और कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी देना शुरू हो गया है.

पशुपालन विभाग के अधिकारी जल्द ही इन जिलों में गायों का डाटा एकत्रित करना शुरू कर देंगे. जल्द ही गाँव-गाँव में कैंप लगाकर गाय का मालिक कौन है, वह कितना दूध देती है, इस प्रकार की तमाम जानकारी एकत्रित की जायेगी.

इसके अलावा के गाय के गले में या कान में एक विशेष प्रकार की रेडियो फ्रिक्वेन्सी आईडी चिप लगाई जाएगी, जिसमें उसकी संपूर्ण जानकारी रहेगी. यह जानकारी एक क्लिक पर मिल सकेगी.

धार में पशुपालन मंत्री अंतर सिंह आर्य ने इस योजना की जानकारी देते हुए इसे गायों के लिए अच्छी पहल बताया. उन्होंने कहा कि इससे गायों की लोकेशन के साथ ही उनके बारे में संपूर्ण जानकारी मिल सकेगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE