888

नवाबों की नगरी लखनऊ के मुसलमानों ने ईद के मौके पर शिया-सुन्नी के मसलें को एक तरफ साथ नमाज अदा कर एक मिसाल पेश की हैं.

मंगलवार को शिया धर्मगुरु मौलाना क़ल्बे सादिक़ और सुन्नी धर्मगुरु मौलाना क़मर आलम की मौजूदगी में एक साथ नमाज़ अदा कर शिया और सुन्नी मुसलामनों ने फिरकापरस्ती को खुद से अलग कर दिया हैं.

इस मौके पर सिब्तेन बाक़री ने कहा कि, ”हम युवाओं की सोच थी कि न सिर्फ़ एक ही धर्म के लोग साथ मिलकर त्योहार मनाएं बल्कि सभी लोग एक-दूसरे के त्योहारों में शिरक़त करें.”

और पढ़े -   गुजरात: गरबा देखने गए युवक की वीडियो बनाने के आरोप में पीट-पीट कर हत्या

वहीँ सुन्नी धर्मगुरु मौलाना क़मर आलम का कहना था कि दुनिया का हर धर्म अमन का पैग़ाम देता है लेकिन ये हम लोगों की बदक़िस्मती है कि धर्म के ही नाम पर सबसे ज़्यादा ख़ून-ख़राबा हुआ है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE