अजमेर 17 फ़रवरी| सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के वंशज एवं वंशनुगत सज्जादानशीन और दरगाह के आध्यात्मिक प्रमुख दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने पाकिस्तान में सूफ़ी शाहबाज़ क़लंदर की दरगाह पर हुए हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि ये हमला पाकिस्तान के सूफ़ीयो पर ना होकर पूरी दुनिया भर के सूफ़ियों ओर सूफ़ी विचारधारा पर हमला है.

शुक्रवार को दरगाह दीवान ने कहा कि पाकिस्तान में सूफ़ी शहबाज़ क़लंदर की दरगाह पर जो हमला हुआ वो कट्टरवादी विचारधारा द्वारा मोहब्बत और मानवता का पैगाम देने वाली विचारधारा को दबाने के लिए चल रहे षड्यंत्र का ही नतीजा है और इसके लिए पाकिस्तान समर्थक आतंकी संगठन जिम्मेदार  है, लेकिन सच्चाई यह भी है की वे अब पाकिस्तान के लिए ही खतरनाक हो गये हे. अब वक्त आ गया है कि पाकिस्तान की सरकार को  आतंकवादी संगठनो का साथ छोड़ कर ख़ुद के द्वारा खड़े किय गये आतंकियों को और आतंकवाद को ख़त्म करने के लियें कड़े से कड़े क़दम उठाने की ज़रूरत हे.

दरगाह दीवान ने ये भी कहा कि पैग़म्बर मोहम्मद (सल्ल.) और उन के चारों ख़लीफ़ाओ के बाद इस्लाम का सही पैगाम दुनिया में फैेला है तो वो इन सूफ़ी संतओ के द्वारा ही फैला है और सूफ़ीयो ने हमेशा लोगों को मिलाने का काम किया है तथा लोगों को मिलकर रहने की शिक्षा दी है. जिन सूफ़ीयो ने हमेशा मोहब्बत और भाईचारे का पैेगाम दिया था आज कट्टरवादी विचारधारा वालो द्वारा उन ही की खानकाहो एवम दरगाहों  पर ख़ून ख़राबा किया जा रहा हे जिसे दुनिया के सूफ़ी और उनमें आस्था रखनेवाले कतई बर्दाश्त नही करेंगे.

दरगाह दीवान ने  पाकिस्तान सरकार से अपील करते हुए कहा कि पाकिस्तान में जितने भी सूफ़ियों के मरकज़ ,दरगाहें हे ओर उन में आस्था रखने वाले हे पाक सरकार उन की सुरक्षा सुनिश्चित करें. अंत में दरगाह दीवान ने भारत सरकार से भी अपील की हे की भारत में भी जितनी दरगाहें हैे उन की सुरक्षा कड़ी की जाए जिस से आतंकी अपनी नापाक हरकत करने में कभी भी कमयाब ना हो.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE