अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में शनिवार रात हुए बवाल में छात्र गुटों की फायरिंग में गोली से जख्मी दो पूर्व छात्रों की मौत हो गई। वहीं रविवार को दिन भर कैंपस में तनाव व दहशत का माहौल बना रहा। हालात के मद्देजनर कैंपस अंदर व बाहर से पुलिस-आरएएफ के पहरे में रहा। अधिकारी दिन भर कैंपस में भ्रमण कर स्थिति का जायजा लेते हुए आगे की रणनीति बनाने में जुटे रहे। हत्या, बवाल, आगजनी, फायरिंग में अब तक सिविल लाइन थाने में 13 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। बवाल में छात्रों की फायरिंग पथराव में एक दरोगा व एएमयू बुल (सुरक्षाकर्मी) भी जख्मी हुआ है। इधर कुलपति ने दोनों मृत पूर्व छात्रों को एएमयू छात्र होने से ही नकार दिया है।
एएमयू के मुमताज हॉल में शनिवार रात मुरादाबाद के छात्र मोहसिन संग मारपीट व उसके कमरे में तोड़फोड़ आगजनी के बाद हुए बवाल में छात्र गुटों में प्रॉक्टर ऑफिस पर जमकर फायरिंग हुई थी। इस फायरिंग में मेहताब खान पुत्र मो. फिरोज खान निवासी बारा गाजीपुर (एमपीएड का निलंबित छात्र) व मो. वाकिफ पुत्र मो. आरफीन अंसारी मूल निवासी हसनपुर थाना बड़रिया जिला सीवान बिहार हाल निवासी तैयब कॉलोनी सरसैयद नगर सिविल लाइंस (12वीं कर चुका छात्र) गंभीर रूप से जख्मी हुए थे। मेहताब की पीठ से घुसी गोली ने हृदय बुरी तरह से क्षतिग्रस्त किया था, जिसे तड़के साढ़े तीन बजे मेडिकल कॉलेज में ही मृत घोषित कर दिया गया। वहीं वाकिफ को सिर में गंभीर चोट होने के कारण सर गंगाराम अस्पताल दिल्ली रेफर किया गया था। मगर उसे भी बचाया नहीं जा सका और दुपहर में परिजन उसके शव को भी मेडिकल कॉलेज वापस ले आए। मेहताब के शव का तड़के ही पोस्टमार्टम कराने के बाद शव गाजीपुर भेज दिया गया, जबकि वाकिफ के शव का देर शाम पोस्टमार्टम कराया जा रहा था।
इससे पहले तड़के साढ़े तीन बजे जब जेएन मेडिकल कॉलेज में जब मेहताब को मृत घोषित किया गया तो वहां छात्रों ने बीटेक की परीक्षा न होने देने का ऐलान कर दिया। मगर वहां मौजूद वीसी व डीआईजी ने जैसे-तैसे छात्रों को समझाकर शांत किया और कहा कि पहले पोस्टमार्टम कराओ। इसके बाद उनकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा। तब जाकर माहौल शांत हुआ। इधर, रविवार सुबह से ही भारी संख्या में पुलिस बल, पीएसी, आरएएफ की तैनाती कैंपस के अंदर व बाहर कर दी गई। बवाल की खबर पर रात को ही लखनऊ से रवाना हुए डीएम-एसएसपी तड़के यहां पहुंच गए। दिन में एएमयू वीसी, डीआईजी, कमिशभनर, डीएम-एसएसपी ने कैंपस की सुरक्षा व्यवस्था देखी। इस बवाल आगजनी में प्रॉक्टर कार्यालय, डीएसडब्ल्यू कार्यालय में भारी नुकसान हुआ है। जिला प्रशासन व एएमयू इंतजामिया की ओर से पूरे घटनाक्रम से राज्य व केंद्रीय गृह मंत्रालयों को अवगत कराया गया है। देर शाम तक अधिकारी इस मंत्रणा में जुटे थे कि अब आगे माहौल न बिगड़े। साथ ही बवाल के आरोपियों पर भी शिकंजा कसा जा सके।
एएमयू के छात्र गुटों की आपसी फायरिंग में दो मौत हुई हैं। फिलहाल कैंपस में शांति है और पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। आगे की हर स्थिति पर नजर रखी जा रही है। पहला प्रयास कैंपस में कानून व्यवस्था कायम रखना है। इसके साथ ही आरोपियों की धरपकड़ के लिए प्रयास रात से ही शुरू किए जा रहे हैं। हत्या के मुकदमों के नामजदों को जेल भेजना पहली प्राथमिकता होगी।
-जे रविंदर गौड़ एसएसपी
हथियारों संग सीसीटीवी में कैद हुए नामचीन चेहरे
______________
एएमयू में बवाल के बाद रविवार सुबह डीआईजी, एसएसपी, एसपी सिटी ने सबसे पहले अपनी टीम के साथ एएमयू इंतजामिया के अधिकारियों के साथ प्रॉक्टर कार्यालय के अलावा कैंपस के हिंसक झड़प प्रभावित इलाके में सीसीटीवी में कैद गतिविधियों को देखा। इस दौरान अनगिनत ऐसे नामचीन चेहरे पहचाने गए, जिनके हाथों में हथियार थे और वह इस बवाल में नेतृत्व भी कर रहे थे। उनकी गतिविधयां इस तरह की थीं कि अदालत में उन्हें हत्याओं से लेकर आगजनी तक का दोषी करार देने के लिए काफी रहेंगी। पुलिस सूत्रों की मानें तो प्रॉक्टर कार्यालय पर फायरिंग और मेहताब को पीछे से गोली मारने की घटना के अलावा आगजनी आदि में कई प्रमुख चेहरे कैद हुए हैं। इन सभी को अब निशाने पर ले लिया गया है।
एएमयू की सुरक्षा में तैनात होगी आरएएफ
______________
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की सुरक्षा अब आरएएफ के हाथों में होगी। शनिवार को हुए उपद्रव की घटना को गंभीरता से लेकर इंतजामिया ने यह फैसला किया है। सब-कुछ ठीक रहा तो एक-दो दिन में ही आरएएफ की एक कंपनी कैंपस में सुरक्षा की कमान संभालेगी। ऐसा करने का उद्देश्य बाहरी तत्वों पर नकेल कसना है, ताकि कट्टा कल्चर को खत्म किया जा सके। एएमयू कुलपति जमीर उद्दीन शाह ने रविवार को सभी संकायों के डीन, कॉलेजों के प्राचार्य, ईसी सदस्यों, हॉलों के प्रोवोस्ट और वार्डन के साथ बैठक की। सबसे अधिक मंथन कैंपस की सुरक्षा को लेकर हुआ। सभी की राय से तय हुआ कि कैंपस की सुरक्षा के लिए आरएएफ की एक कंपनी को तैनात किया जाए। इसके एवज में इंतजामिया हर माह डेढ़ लाख रुपये खर्च करेगा। यह भी तय हुआ कि घटना की उच्चस्तरीय जांच बाहरी एजेंसी से कराई जाएगी। जांच रिपोर्ट के बाद अपराधियों को कड़ी सजा दी जाएगी। विश्वविद्यालय के कंप्यूटर सेंटर की ओर से उपलब्ध कराई इंटरनेट सेवा अब रात में दो से सुबह 6 बजे तक बंद रखी जाएगी, ताकि छात्र समय पर सो सकें। कुलपति ने कहा कि उनकी जानकारी में आया है कि कुछ छात्र रातभर इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और कक्षाओं में उनकी उपस्थिति कम होती है। इंतजामिया ने सभी प्रोवोस्ट व वार्डन से कहा है कि वे अपने-अपने आवासीय हॉलों में विशेष चौकसी बरतें, ताकि बाहरी तत्व प्रवेश न कर सकें।
एएमयू में कट्टा कल्चर हावी
______________
एएमयू पढ़ाई के लिए जाना जाता है तो दूसरी पहचान असमाजिक तत्वों ने कट्टा कल्चर से बना दी है। कैंपस में फाय¨रग होना आम बात हो गई है। चाहे हर्ष फाय¨रग हो या छात्रों के बीच जंग। जिसको जब मौका मिला, फाय¨रग करने से नहीं चूका। नौ मार्च को सुलेमान हॉल में भारत-पाक के बीच खेले गए टी-20 मैच के दौरान हर्ष फाय¨रग हुई थी, जिसमें एक छात्र आंखें चले गई। शनिवार रात जिस तरह उपद्रवियों ने पुलिस को गोली का जवाब गोली से दिया, वह होश उड़ाने वाला था। बड़ा सवाल यही है कि कलम, किताब वाले हाथों में तमंचा कहां से आ रहे हैं? क्या बाहर से सप्लायर यहां हथियार खपा रहे हैं? अगर ऐसा है तो यह पुलिस के लिए भी चुनौती है। तमंचे के स्थान पर बड़ा हथियार भी उपद्रवियों के हाथ लग सकता है।
पहले भी बना था प्लान
2007 में जब वीसी लॉज में आग लगाई थी, तब भी प्लान बनाया गया था कि कैंपस की सुरक्षा केंद्रीय बलों को सौंपी जाएगी। इसके लिए दीवार ऊंची करने व सीसीटीवी कैमरे लगाने का फैसला लिया था।
चलेगा सर्च ऑपरेशन
______________
एएमयू के कंट्टा कल्चर से जिला प्रशासन भी चिंतित है। इसके लिए डीएम डॉ. बलकार सिंह ने कुलपति जमीर उद्दीन शाह को सलाह दी कि इंतजामिया व पुलिस की संयुक्त टीम बनाकर सर्च ऑपरेशन चलाने की जरूरत है। प्रॉक्टर प्रो. एम. मोहसिन खान ने बताया कि कैंपस में पुलिस के साथ संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन चलाएंगे। कैंपस छात्रों के लिए है, बाहरी तत्वों के लिए नहीं। ऐसे तत्वों पर कार्रवाई की जाएगी।
शनिवार रात एएमयू में जिस तरह से कट्टों का खुलकर इस्तेमाल हो रहा था, उसे देखने के बाद एसपी सिटी अंशुल गुप्ता ने भी स्वीकार किया कि कैंपस में कट्टा कल्चर हावी है।
एएमयू परिसर में रविवार को तनावभरी शांति थी, मगर प्रॉक्टर दफ्तर पर अधजले दस्तावेज व फुंकी खड़ी जिप्सी शनिवार रात हुए तांडव की कहानी बयां कर रही थी। कुलपति आवास के पास गेस्ट हाउस में खड़ी जज की कार में भी उपद्रवियों ने तोड़फोड़ व आगजनी की। वे यहां बेटे को बीटेक की प्रवेश परीक्षा दिलाने आए थे। शनिवार रात करीब 50 राउंड फाय¨रग से एएमयू इलाका थर्रा गया था। आगजनी व तोड़फोड़ में 10 लोगों की तरफ पुलिस को तहरीर मिली हैं। फाय¨रग में एक दारोगा को भी छर्रे लगे।
उपद्रवी लापता, फोर्स हाजिर
______________
शनिवार रातभर एएमयू में तांडव मचाने वाले उपद्रवी रविवार सुबह लापता रहे। सड़कों पर फोर्स दिखा रह था। यहां तैनात की गई जिले के कई थानों की पुलिस विभिन्न प्वॉइंट पर निगाह रखे हुए थी। कुलपति आवास, शमशाद मार्केट व प्रॉक्टर दफ्तर पर बड़ी संख्या में पुलिस तैनात थी। एसपी सिटी अंशुल गुप्ता समेत अन्य अफसर सिविल लाइंस में आगे की रणनीति बनाने के लिए डेरा जमाए थे।
पुलिस के सामने हुई फायरिंग
______________
15 थानों की पुलिस अफसरों के साथ एएमयू पर पहुंच गई थी, उनके साथ सामने भी छात्र तमंचों से फाय¨रग करते रहे। किसी की समझ में नहीं आ रहा था कि उनसे निपटने के लिए क्या रणनीति अपनाई जाए। अधिकारियों में अनुभव का अभाव था, इसका फायदा उपद्रवी छात्रों ने उठाया। छात्रों ने प्रॉक्टर दफ्तर से लेकर इमरजेंसी गेट तक फाय¨रग करते रहे, उन्हें कोई रोकने वाला नहीं था।
दारोगा को लगे छर्रे
______________
उपद्रवियों ने एएमयू में गेस्ट हाउस के बाहर खड़ी नीली बत्ती की कार में तोड़फोड़ की। यह कार फतेहपुर के जज वकार अहमद अंसारी की थी। वे बेटे को बीटेक की प्रवेश परीक्षा दिलाने आए थे। मोहम्मद अशफाक निवासी सीकर (राजस्थान) की कार को उपद्रवियों ने आग लगा दी। वे भी बेटे दानिश को प्रवेश परीक्षा दिलाने आए थे। उपद्रवियों ने दो और कारों को नुकसान पहुंचाया। फाय¨रग में दारोगा चंद्रशेखर को छर्रे लगे।
तोड़फोड़, आगजनी की रिपोर्ट
______________
आबिद अली खां, कार्यवाहक मेंबर इंचार्ज गेस्ट हाउस ने पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि उपद्रवियों ने गेस्ट हाउस के बाहर खड़ी फतेहपुर के जज की इनोवा कार में तोड़फोड़ की। शकील अहमद की स्विफ्ट डिजायर कार में आग लगा दी। राजस्थान के अशफाक की कार में आग लगा दी गई। गेस्ट हाउस में नंबर-2 के बाहर रखे गमले व खिड़कियों के शीशे तोड़ दिए।
लूट का मुकदमा
______________
बीए प्रथम वर्ष के छात्र मोहम्मद कमाल अशफाक ने तहरीर में कहा है कि शहरोज, जोरेज, यूसुस बहारी, आमिर चौधरी, अतमश, जैद शेरवानी आदि 15-20 युवकों के साथ तमंचे व तलवार लेकर आए। उसके बड़े भाई मोहसिन इकबाल को पूछने लगे। उन्होंने फाय¨रग व तोड़फोड़ की। कोचिंग के लिए रखे 32 हजार रुपये लूट ले गए।
धमकाने का आरोप
______________
एमए (राजनीति शास्त्र) के छात्र मोहसिन इकबाल ने तहरीर में कहा है कि वह मुमताज हॉस्टल के पास से शनिवार रात सात बजे गुजर रहा था, तभी जैद शेरवानी ने रोक लिया। सीने पर तमंचा तानकर धमकाने लगा। जेब में रखे 1300 रुपये भी लूट लिए। मोहसिन इकबाल ने दूसरी तहरीर में कई छात्रों को नामजद कराते हुए कहा है कि उन्होंने कमरे में आकर आगजनी की। तीसरी तहरीर में प्रॉक्टर आफिस पर मारपीट व आगजनी करने का जिक्र किया गया है।
जानलेवा हमले की रिपोर्ट
______________
एएमयू छात्र मोहम्मद अमीर ने तहरीर में कहा है कि मोहसिन निवासी आजमगढ़, जफर निवासी हमजा कालोनी व शोएब खान चार-पांच छात्रों के साथ आए। जैद शेरवानी ने उन्हें रोकने की कोशिश की। विरोध करने पर फाय¨रग की। गाली-गलौज कर दी।
आगजनी की रिपोर्ट
______________
कार्यवाहक डीएसडब्ल्यू प्रोफेसर परवेज कमर रिजवी ने तहरीर में कहा है कि शनिवार रात कर्मचारी साजिद ने बताया कि चीफ विजिलेंस आफिस का दरवाजा खुला है, ताला टूटा है। वहां जाकर देखा तो सामान जला पड़ा था। ये जानकारी सेक्शन आफीसर को दी गई तो कई कर्मचारी आ गए।

साभार: teesrijungnews.com


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें