indian-fishermen_650x400_51454238953

सऊदी अरब में फंसे 62 तमिलनाडु मछुआरों की आजादी के सबंध में विदेश मंत्रालय ने अपने हाथ ऊँचे कर दिए हैं. मद्रास हाईकोर्ट बेंच को दी गई जानकारी में विदेश मंत्रालय ने बताया कि अन्य देशों की तुलना में सऊदी अरब के रोजगार कानून सख्त है और इसलिए वहां फंसे 62 तमिलनाडु मछुआरों की आजादी मुश्किल है.

मंत्रालय की और से असिस्टेंट सॉलिसीटर-जनरल (एएसजी) जीआर स्वामीनाथन ने बेंच को बताया कि सऊदी अरब में एक स्पांसरशिप सिस्टम कफाला है जो विदेशी कामगारों के रोजगार व आवास की देखरेख करती है इसलिए कोई भी कर्मचारी बिना बालिक को बताए देश से न तो बाहर जा सकता है और न ही आ सकता है.

और पढ़े -   नरौदा पाटिया नरसंहार मामलें में गवाह ने कहा - दंगाईयों की भीड़ में बाबू बजरंगी को नहीं देखा था

साल की शुरुआत में सऊदी अरब में फंसे एक मछुआरे ने व्हाट्सएप के जरिए एक वीडियो भेजा था जिसमें अपनी दयनीय स्थिति दिखाई थी. जिसके बाद मुख्यमंत्री जयललिता ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर मामले में दखलंदाजी की मांग की थी.

मछुआरों द्वारा सोशल मीडिया के जरिए अभियान चलाये जाने को लेकर सऊदी अरब में कंपनी का मालिक पुलिस में शिकायत दर्ज करने की धमकी दे रहा हैं जिसकी वजह से इनको बचाना मुश्किल हो रहा हैं.

और पढ़े -   अगर बच्चा चोरी की घटना थी तो मारने वाली हजारों की भीड़ में कोई मुस्लिम क्यों नहीं था ?

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE