उत्तरप्रदेश में योगी केबिनेट में मंत्री खादी एवं ग्राम्य उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी के रसूख के चलते लखनऊ के लोहिया संस्थान की न केवल करोड़ों की एमआरआई मशीन खराब हो गई बल्कि मरीजों की जान पर भी आफत आ गई.

दरअसल पचौरी भाषण के दौरान चक्कर आने की शिकायत के बाद शुक्रवार को लोहिया संस्थान की इमरजेंसी में इलाज के लिए पहुंचे थे. डॉक्टरों ने सिर की एमआरआई जांच लिखी. जांच के लिए मंत्री मशीन पर लेटने जा रहे थे तभी गनर मुकेश कमर में लोडेड पिस्टल लगाकर कर्मचारियों को धमकाता यूनिट में दाखिल हो गया.

एमआरआई मशीन की मैग्नेटिक फील्ड ने पिस्टल अंदर खींच ली, जिसके बाद पिस्टल मशीन में चिपक गई. अब मशीन काम नहीं कर रही है. बताया जा रहा है कि मशीन को ठीक करने में करीब दस दिन लग जाएंगे और इसको ठीक करने में करीब 40 से 50 लाख रुपए का खर्च आएगा.

डॉक्टरों का कहना है कि मशीन में चिपकी पिस्टल छुड़ाने के लिए मशीन में भरी 23 हजार लीटर लिक्विड हीलियम गैस निकाली जाएगीा. इसे निकालने के बाद चुंबक का प्रभाव कम होगा. इसके बाद ही मशीन चलेगी. इसमें 30 से 40 लाख रुपये का खर्च आएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE