संगरूर। अबोहर में दलित परिवार के भीम हत्याकांड का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि संगरूर में एक दलित युवक मंगा सिंह पर पुलिस ने बर्बर अत्याचार किया है। थाना सिटी संगरूर में तैनात पुलिस कर्मचारियों ने उसे यातना देने में सारी हदों का पार कर दिया। पुलिसकर्मियों ने उसके गुप्तांग में पेट्रोल तक डाल दिया। पुलिस ने उस पर शराब तस्करी का आरोप लगाया है।

बाद में उसे स्थानीय पार्षद ने पुलिस के चंगुल से छुड़वाकर अस्पताल में भर्ती कराया। उसे पहले संगरूर के सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। बाद में हालत में सुधार नहीं होने पर उसे पटियाला के राजिंदरा अस्पताल रेफर कर दिया गया। उसकी हालत काफी गंभीर बताई जाती है। लोगों का अाराेप है कि पुलिस ने यह करतूत एक शराब ठकेदार के इशारे पर किसा है। इस मामले में एक हेडकांस्टेबल, दो होमगार्ड जवानों तथा शराब ठेकेदार के एक कारिंदें के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

तीन पुलिसकर्मियों व शराब ठेकेदार के कारिंद के खिलाफ मामला दर्ज

संगरूर पुलिस के इस घिनौने अत्याचार का मामला सामने आने पर लाेग भड़क गए। इसके बाद पटियाला रेंज के डीआइजी बलकार सिंह ने पहुंच कर पीडि़त से बातचीत की। लोगों का आरोप है कि पुलिस मामले की लीपापोती करने में जुटी है। दूसरी ओर, डीआइजी बलकार सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। यह घिनौना अपराध करने वाले किसी भी पुलिसकर्मी को बख्शा नहीं जाएगा सख्त से सख्त कार्रवाई होगी।

वहीं, डीआइजी बलकार सिंह अस्पताल में पीडि़त से मिलने पहुंचे, तो पुलिस के अत्याचार से पीडि़त एक अन्य व्यक्ति ने भी अपनी शिकायत दी। उसने आरोप लगाया कि पुलिस ने उस पर भी इसी प्रकार अत्याचार किया है और उसके खिलाफ झूठा मामला दर्ज करने की धमकी देकर 12000 रुपये रिश्वत ली है। डीआइजी ने दोनों मामलों पर सख्त कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

पुलिस शराब तस्करी का लगा रही आरोप

सिविल अस्पताल में दर्द व पीड़ा से तड़प रहे संगरूर निवासी मंगा सिंह ने बताया कि थाना सिटी संगरूर में तैनात हेड कांस्टेबल भोला सिंह, दो होमगार्ड मुलाजिम व एक शराब के ठेकेदारों का कारिंदा बुधवार शाम को उसके चिकन के खोखे पर आए और उसे गाड़ी में बैठाकर थाने ले आए। वहां पुलिस कर्मचारियों ने उसके साथ जमकर मारपीट की और उसके गुप्तांग में सीरिंज से पेट्रोल डाल दिया।

उसने बताया कि तीन घंटे बाद थाने पर पहुंचे उनके वार्ड के पार्षद ने उसे छुड़वाकर अस्पताल में भर्ती करवाया। पुलिस उस पर शराब तस्करी का नाजायज आरोप लगा रही है और जुर्म स्वीकार करवाने के लिए उस पर पुलिस ने यह अत्याचार किया।
डॉक्टरों ने की पुष्टि: पार्षद चानण राम ने बताया कि उसे पीडि़त मंगा सिंह की मां शिंदर कौर ने सूचना दी थी। इसके बाद उन्होंने पुलिस के चंगुल से छुड़वाकर मंगा सिंह को अस्पताल में भर्ती करवाया। उन्होंने दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। मौके पर तैनात डॉक्टर बलजीत सिंह ने मंगा सिंह के गुप्तांग में पेट्रोल डाले जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि पीडि़त मरीज की हालत बेहद खराब है।

उन्होंने कहा कि सभी टेस्ट करवाने के साथ ही उपचार शुरू कर दिया है, हालत गंभीर होने कारण मरीज को पटियाला रेफर कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अपने कैरियर के दौरान इस प्रकार का अत्याचार उन्होंने किसी व्यक्ति पर नहीं देखा।

”पीडि़त के बयान के आधार पर थाना सिटी संगरूर में तैनात हेडकांस्टेबल भोला सिंह, होमगार्ड जवान इकबाल खान व गुरजंट सिंह तथा शराब ठेकेदार के एक कारिंदे यूथ अकाली दल के जिला महासचिव संजय कुमार बबलू के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। अगली कार्रवाई के लिए मामले की जांच जारी है।
– जसकरण सिंह तेजा, पुलिस अधीक्षक, संगरूर। साभार: जागरण


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें