jh11

झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) के केंद्रीय महासचिव बंधु तिर्की ने झारखंड की बीजेपी सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि वे सरेआम गाय की बलि देंगे.

आदिवासी परंपरा के तहत की जाने वाली पत्थलगड़ी को गैरकानूनी ठहराए जाने से नाराज तिर्की ने गुरुवार को कहा कि पत्थलगड़ी का विरोध आदिवासियों की सभ्यता, संस्कृति और परंपराओं के विरोध करने के बराबर है. उन्होंने कहा कि जिसे किसी भी कीमत पर आदिवासी समाज नहीं स्वीकार करेगा.

उन्होंने कहा कि बलि के लिए सब कुछ निश्चित कर लिया गया है. अगर सरकार उन्हें ऐसा करने से रोक सकती है, तो रोककर दिखाये. उन्होंने कहा, 17 फरवरी, 2018 को रांची जिला के रातू प्रखंड में स्थित बनोदरा बोंगाबुरू टोंगरी गांव में सुबह 11 बजे वह गाय की बलि देंगे.

इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर भड़कते हुए कहा कि सरकार को आदिवासी समाज की संस्कृति और परंपरा की जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कम से कम बिरसा मुंडा जैसे शहीद का नाम लेकर इस प्रदेश को कलंकित न करें.

झारखंड के पूर्व शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार संविधान की बात तो करती है, लेकिन पांचवीं अनुसूची के बारे में बात नहीं करती.  उन्होंने कहा कि संविधान की 5वीं अनुसूची से संबंधित कानूनों को पत्थलगड़ी के माध्यम से लोगों को जानकारी देना संविधान का संरक्षण करना है ना कि संविधान का विरोध.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE