सरकाघाट। उपमंडल चंदैश के एक मंदिर में अपने बेटे को लेकर पहुंचे बलदेव चंद को मंदिर के कारिंदों ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। बेटे के स्वास्थ्य लाभ की कामना करने गए बलदेव अपमानित होकर वहां से वापस अपने घर आ गया।

बुधवार को बलदेव ने उपमंडल अधिकारी सुरेश जसवाल को इस संबंध में शिकायतपत्र सौंप कर उनके साथ इस तरह का व्यवहार करने वालों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाने की मांग की है।बलदेव चंद के अनुसार उसका बेटा बीमार रहता है। देवता के प्रति आस्था के कारण वह अपने बेटे व भाई के साथ सुबह आरती के दौरान मंदिर में पहुंच गया।

और पढ़े -   एक बार फिर से जातीय हिंसा की आग में दहला सहारनपुर, गोली लगने से एक की मौत 11 घायल

मंदिर के पुजारी ने उससे पूछा कि क्या तुम ब्राrाण हो। मना करने पर पुजारी आग बबूला हो गया और उन्हें अपमानित कर मंदिर से बाहर निकाल दिया। बलदेव चंद ने बताया कि उपमंडल अधिकारी सरकाघाट को शिकायतपत्र सौंपा गया है।

उधर, समाजसेवी पवन प्रेमी ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा कर समाज में जातिवाद को बढ़ावा देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। साभार: jagran

और पढ़े -   अलीगढ़: ठाकुरों ने भी चला दलितों का दांव, प्रशासन को दी इस्लाम अपनाने की धमकी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE