बिहार में शराबबंदी का साकारात्मक प्रभाव दिखने लगा हैं. पूर्ण शराबबंदी लागू होने के बाद बिहार में अपराध की घटनाओं में कमी आई है.

35% reservation for women in government jobs

पटना प्रमंडल के छह जिले पटना, नालंदा, भोजपुर, बक्सर, रोहतास और कैमूर के आंकड़े बताते हैं कि शराबबंदी के बाद अपराध में 27 फीसदी से अधिक की कमी आई है.

इस साल एक अप्रैल से 23 अप्रैल के बीच उक्त जिलों में 2328 अपराध के मामले दर्ज हुए। पिछले साल इतने ही दिनों में 3178 अपराध हुए थे।

और पढ़े -   मध्यप्रदेश की तरह महाराष्ट्र में भी किसान हुए उग्र, जमकर कर रहे आगजनी और तोड़फोड़

सार्वजनिक और धार्मिक जुलूसों में तनाव और झगड़े कम हुए हैं। सड़क दुर्घटनाओं और इससे मरने वालों की संख्या में भी कमी आई है। बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि शराबबंदी पर पूरी सख्ती बरतें। सीमावर्ती जिलों में सघन पेट्र्रोंलग करें। मुख्यमंत्री ने संवाद कक्ष में विभिन्न योजनाओं और समस्याओं की पांच घंटे तक समीक्षा की।

सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा की गई पटना प्रमंडल की समीक्षा बैठक में भी यह बात सामने आई. बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि शराबबंदी पर पूरी सख्ती बरतें. सीमावर्ती जिलों में सघन पेट्रोलिंग करें.

और पढ़े -   शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने परिवार की मौजूदगी में प्रेमी की प्राइवेट पार्ट काटा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE